जब जानवर कोई इंसान को मारे, कहते है दुनिया में…..

हिंदी फिल्म के एक बहुत ही दर्दनाक और मशहूर गाना है,
“जब जानवर कोई इंसान को मारे, कहते है दुनिया में बहसी उसे सारे”
“एक जानवर की जान आज इंसानो नें ली है चुप क्यों है संसार

आज सुबह नींद खुला तो एक भयानक तस्वीर सामने था। क्योंकि हम भी whatsap university के छात्रों में शामिल है, जो कि सबकुछ whatsap से ही पा लेना चाहता है। देश दुनिया के बदलते हालात के लिए वह स्वयं को नही दूसरों को दोष देता है।
हर रोज विस्तर पर आँख खुलते ही पहली नजर Whatsap पर पड़ना एक स्वाभाविक जीवन का हिस्सा है। लेकिन आज इस whatsap ने मुझे झकझोर दिया।

whatsap खोलते ही हमने देखा कि किसी ने एक तस्वीर भेजा है जो कि कुछ समय पहले की है। जिसमें एक नंदी महाराज बैल का “तन सर से जुदा” कर दिया है किसी ने। मामला नोएडा सदरपुर गाँव की आम्रपाली के सामने खाली पड़ी प्लाट की है। निश्चित तौर पर यह तस्वीर हमे किसी नें मिडिया रिपोर्टिंग के लिए भेजा था।
समय कम और व्यस्तता के कारण वहाँ नही पहुँच पाया, जिसका हमे अभी भी मलाल है, निश्चित तौर पर ऐसी मलाल बहुत सारे लोगों के दिम में होंगे।
थोड़ी देर बाद में पता चला कि यह घटना सुबह की समय की है, क्योंकि उस समय तक नंदी महाराज के शरीर से रक्तश्राव हो ही रहा था। धीरे-धीरे हिंदू संगठन का जमावडा होना और पुलिस प्रशासन का बड़ी पुलिस फोर्ट से साथ घटना स्थल पर पहुँचना तो स्वाभाविक ही था और हुआ भी ऐसा ही। क्योंकि ऐसी स्थिति में तो माहौल बिगड़ने का डर लगा रहता है।
खैर यहाँ पर प्रशासन की सतर्कता से सब कुछ शांति पूर्वक रहा। होना भी ऐसा ही चाहिए था। हिंदू संगठनों नें भावना को आहत करने वाली कारवाई मानते हुए दोषी को सजा देने की मांग की और पुलिस प्रशासन नें भी स्वीकार किया।
इन सबके जो एक मलाल है उसी में कई सवाल भी है । आखिर नंदी नें किसी का क्या बिगाड़ा था होगा ? क्या ऐसे मामले को पुलिस गौ-कशी का मानकर जांच करेगी ? जिस प्रकार सर को तन से जुदा किया गया था उससे तो लगता यह किसी भी अकेले व्यक्ति का काम नही है। निश्चित यह पूरी सुनियोजित तरीके से किया गया है। या फिर नंदी को पहले नशे का इंजेक्शन दिया गया होगा । जैसा कि पहले भी कई वायरल विडियों में देखने को मिलता रहा है। छोटे-छोटे बच्चे किस प्रकार से गाय और नंदी को पहले इंजेक्शन लगा देते है और बाद में रात के अंधेरे में हत्या कर दिया जाता है। जिससे अपना पापी पेट के भूख को इंसान रूपी जानवर मिटाते है।
क्या यहाँ भी इसे काटकर अपने पेट भरने का जुगाड़ किया जा रहा था ? अगर ऐसा तो फिर छोड़कर भागा क्यों ? अगर छोड़कर भागा है तो जरूर किसी ने देख लिया होगा। उस आदमी को सामने आकर घटना के बारे में बताना चाहिए या नही यह तो उसके इच्छा की बात है। दूसरी बड़ी बात है क्या यह पुलिस प्रशासन और प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी सरकार के लिए एक खुला चुनौति नही है ? हत्यारा यह बताना चाह रहा है कि तुम कुछ भी करों हम तो वही करेंगे जो हमारे किताब में लिखा है।
अन्यथा नोएडा के सबसे बड़े हिंदू इलाके में इस प्रकार की घटना को अंजाम देना और फिर छोड़कर भागना एक चुनौति नही है।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: