fbpx

05 से 09 अप्रैल के दौरान जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, गिलगित, बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद और हिमाचल प्रदेश में तथा 06 से 09 अप्रैल के दौरान उत्तराखंड छिटपुट से लेकर दूर-दूर तक वर्षा होने/बर्फबारी होने की संभावना

05 से 09 अप्रैल के दौरान जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, गिलगित, बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद और हिमाचल प्रदेश में तथा 06 से 09 अप्रैल के दौरान उत्तराखंड छिटपुट से लेकर दूर-दूर तक वर्षा होने/बर्फबारी होने की संभावना

05 से 07 अप्रैल के दौरान को पंजाब, हरियाणा और पश्चिम उत्तर प्रदेश में कहीं-कहीं पर बारिश होने की संभावना है

6 अप्रैल को जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, गिलगित, बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद और हिमाचल प्रदेश में तथा 07 अप्रैल को उत्तराखंड में कहीं-कहीं पर भारी बारिश होने/बर्फभारी होने की संभावना है

05 से 07 अप्रैल के दौरान पश्चिम राजस्थान में कहीं-कहीं धूल भरी आंधी चलने/ बादल गरजने और 30-40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार वाली तेज हवाएं चलने की संभावना हैं
प्रविष्टि तिथि: 05 APR 2021 11:25AM by PIB Delhi
भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के राष्ट्रीय मौसम पूर्वानुमान केन्‍द्र के अनुसार:-

मौसम की महत्‍वपूर्ण विशेषताएं

मध्‍य समुद्र स्‍थल से 3.1 किलोमीटर से 7.6 किलोमीटर ऊपर पश्चिमी विक्षोभ एक गर्त के रूप में 32 ° एन उत्तर देशांतर से 62 ° ई अक्षांश के साथ आगे बढ़ेगा और एक ताजा पश्चिम विक्षोभ 6 अप्रैल के बाद पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र को प्रभावित कर सकता है। उपरोक्‍त प्रणालियों के प्रभाव के तहत- :

i) 05 से 09 अप्रैल के दौरान जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, गिलगित, बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद और हिमाचल प्रदेश में और 06 से 09 अप्रैल के दौरान उत्तराखंड में छिट-पुट से लेकर दूर-दूर तक बारिश होने/बर्फबारी होने की संभावना है। 05 से 07 अप्रैल के दौरान पंजाब, हरियाणा और पश्चिम उत्तर प्रदेश में कहीं-कहीं पर बारिश होने की संभावना है।

ii) 05-07 अप्रैल के दौरान पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र तथा 06 से 07 अप्रैल के दौरान आस-पास के मैदानी इलाकों में कहीं-कहीं बादल गरजने/बिजली चमकने और तेज हवाएं चलने की संभावना है।

iii) 6 अप्रैल को जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, गिलगित, बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद और 05 और 06 अप्रैल को हिमाचल प्रदेश तथा 06 और 07 अप्रैल को उत्तराखंड में कहीं-कहीं पर भारी बारिश होने/बर्फबारी होने की संभावना है।

iv) 6 अप्रैल को जम्मू, कश्मीर, लद्दाख, गिलगित, बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद और हिमाचल प्रदेश में तथा 07 अप्रैल को उत्तराखंड में कहीं-कहीं पर भारी बारिश/ बर्फबारी की संभावना है।

v) 05 अप्रैल से 07 अप्रैल के दौरान पश्चिमी राजस्थान में कुछ स्‍थानों पर धूल भरी आंधी/बादल गरजने और 30-40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार वाली तेज हवाएं चलने की संभावना है।

अगले 24 घंटों के दौरान दक्षिण पश्चिमी राजस्‍थान अगले दो दिनों के दौरान पूर्वी राजस्थान, अगले 3 दिनों के दौरान विदर्भ में और 7 से 9 अप्रैल के दौरान मध्‍य प्रदेश के कुछ क्षेत्रों में गर्मी की लहर चलने की संभावना है।

♦ मौसम के मुख्‍य आकलन

कल 08.30 बजे आईएसटी से 17.30 बजे आईएसटी तक जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, गिलगित, बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, अरुणाचल प्रदेश के कुछ स्‍थानों पर तथा असम, मेघालय, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, ओडिशा, तटीय आंध्र प्रदेश, यनम, तमिलनाडु, पुदुचेरी, कराईकल, केरल और माहे में छिट-पुट स्‍थानों पर बारिश होने/बादल गरजने के साथ बारिश होने का पता चला है।
आज 08.30 बजे आईएसटी से 17.30 बजे तक 1 सेंटीमीटर या अधिक बारिश रिकॉर्ड की गई। पोर्ट ब्लेयर में 2 सेंटीमीटर बारिश हुई।
कल 08.30 बजे आईएसटी से आज 05:30 बजे आईएसटी तक : असम, मेघालय, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, ओडिशा और तमिलनाडु, पुदुचेरी और कराईकल के कुछ स्‍थानों पर बादल गरजे।
कल दक्षिण पश्चिम राजस्थान के कुछ क्षेत्रों में हीट वेव की स्थिति देखी गई।
04-04-2021के अनुसार अधिकतम तापमान प्रस्‍थान – पश्चिम राजस्थान और अरुणाचल प्रदेश के कुछ स्‍थानों पर सामान्‍य से अधिक (5.1 डिग्री सेल्सियस या अधिक) अधिकतम तापमान पाया गया; हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, पंजाब और पूर्वी राजस्थान के अधिकांश हिस्‍सों में और असम, मेघालय, विदर्भ, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम के कुछ स्थानों पर तथा गंगीय पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु, पुदुचेरी और कराईकल में कहीं कहीं सामान्य से ऊपर (3.1° सी से 5.0 ° सी तक); मध्य प्रदेश, झारखंड और विदर्भ के अधिकांश हिस्‍सों में,; जम्मू, कश्मीर- लद्दाख, गिलगित, बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद, गुजरात राज्य, उत्तर प्रदेश, बिहार, ओडिशा, मराठवाड़ा तटीय और दक्षिण आंतरिक कर्नाटक तथा तटीय आंध्र प्रदेश और यानम के कुछ स्‍थानों पर तथा तेलंगाना, रायलसीमा, कोंकण और गोवा और उत्तर आंतरिक कर्नाटक के अलग-अलग स्‍थानों पर सामान्‍य से अधिक (1.6 ° सी से -3.0 ° सी) तापमान पाया गया। तापमान अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के कुछ स्‍थानों पर तथा मध्य महाराष्ट्र में कहीं-कहीं सामान्‍य से कम (-1.6 ° सी से -3.0 ° सी) तापमान पाया गया, जबकि मध्‍य महाराष्‍ट्र के कुछ स्‍थानों पर तथा देश के शेष भागों में तापमान लगभग सामान्‍य रहा। कल, सबसे अधिक तापमान 43.3 डिग्री सेल्सियस बाड़मेर (पश्चिम राजस्थान) में रिकॉर्ड किया गया।
04-04-2021 के अनुसार न्यूनतम तापमान प्रस्‍थान : पश्चिम राजस्थान, सौराष्ट्र और कच्छ, तमिलनाडु, पुदुचेरी, कराईकल के अलग-अलग स्थानों पर न्यूनतम तापमान सामान्य से 3.1 डिग्री सेल्सियस से 5.0 डिग्री सेल्सियस तक रिकॉर्ड किया गया। गंगीय पश्चिम बंगाल, ओडिशा, गुजरात क्षेत्र और तटीय आंध्र प्रदेश तथा यानम के अधिकांश स्थानों पर, ऊपर; उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, मराठवाड़ा और रायलसीमा पर कुछ स्थानों पर सामान्‍य से अधिक रहा सामान्य (1.6 ° सी से 3.0 ° सी तक) रहा। हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली के अधिकांश स्‍थानों पर, पूर्वी उत्तर प्रदेश और पूर्वी मध्‍य प्रदेश के कुछ स्‍थानों पर, पश्चिम उत्तर प्रदेश और झारखंड में अलग-थलग स्थानों पर सामान्‍य से कम (-3.1 °सी से -5.0 ° सी तक) रहा। हिमाचल प्रदेश, पंजाब, बिहार, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा के अधिकांश स्‍थानों पर; उत्तराखंड, पूर्वी राजस्थान और पश्चिम मध्य प्रदेश के कुछ स्‍थानों पर तापमान सामान्‍य से कम (-1.6 ° सी से -3.0 ° सी तक) रहा; जबकि विदर्भ तथा विदर्भ के कुछ स्‍थानों तथा देश के शेष भागों में तापमान लगभग सामान्‍य रहा। कल देश के मैदानी इलाकों की तुलना में पंतनगर (उत्तराखंड) न्यूनतम तापमान 7.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।
उत्तरी अंडमान सागर और उससे सटे दक्षिण म्यांमार तट पर चक्रवाती सर्कुलेशन मुख्‍य समुद्र तल से 3.1 किलोमीटर ऊपर तक बना हुआ है।
दक्षिण छत्तीसगढ़ और उसके आसपास चक्रवाती सर्कुलेशन मध्‍य समुद्र तल से 2.1 किलोमीटर ऊपर तक बना हुआ है।
झारखंड और उससे सटे गंगीय पश्चिम बंगाल के ऊपर चक्रवाती सर्कुलेशन समुद्र तल से 0.9 किलोमीटर ऊपर तक बना हुआ है।
दक्षिण-पश्चिम राजस्थान और उसके आसपास चक्रवाती सर्कुलेशन समुद्र तल से 0.9 किलोमीटर ऊपर तक बना हुआ है।
समुद्र तल के ऊपर 5.8 किलोमीटर और 7.6 किलोमीटर के बीच बनी गर्त 86 ° ई देशांतर से 22 ° ई अक्षांश के उत्तर में स्थित है।
पश्चिमी विक्षोभ समुद्र तल से 3.1 किलोमीटर से 7.6 किलोमीटर ऊपर एक गर्त के रूप में स्थित है जो अब 62 ° ई देशांतर से 32 ° एन अक्षांश के साथ आगे बढ़ रहा है।
उत्तर दक्षिणी गर्त समुद्र तल से 0.9 किलोमीटर ऊपर स्थित है जो उत्तर आंतरिक कर्नाटक से आंतरिक तमिलनाडु तक बनी हुई है।
06 अप्रैल, 2021 से एक ताजा पश्चिमी विक्षोभ से पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र के प्रभावित होने की संभावना है।

मौसम संबंधी विश्लेषण (0530 आईएसटी पर आधारित)

उत्तरी अंडमान सागर और उसके आसपास के दक्षिण म्यांमार तट के ऊपर चक्रवाती सर्कुलेशन समुद्र तल से 3.1 किलोमीटर ऊपर स्थित है।
दक्षिण छत्तीसगढ़ और आसपास के क्षेत्र के ऊपर चक्रवाती सर्कुलेशन विस्‍तार करते हुए समुद्र तल से 2.1 किलोमीटर ऊपर स्थित है।
झारखंड और उससे सटे गंगीय पश्चिम बंगाल के ऊपर चक्रवाती सर्कुलेशन समुद्र तल से 0.9 किलोमीटर ऊपर स्थित है।
दक्षिण-पश्चिम राजस्थान और आसपास के क्षेत्रों में चक्रवाती सर्कुलेशन 0.9 किलोमीटर ऊपर स्थित है।
समुद्र तल के ऊपर 5.8 किलोमीटर और 7.6 किलोमीटर के बीच बनी गर्त 86 ° ई देशांतर से 22 ° ई अक्षांश के उत्तर में स्थित है।
पश्चिमी विक्षोभ समुद्र तल से 3.1 किलोमीटर से 7.6 किलोमीटर ऊपर एक गर्त के रूप में स्थित है जो अब 62 ° ई देशांतर से 32 ° एन अक्षांश के साथ आगे बढ़ रहा है।
उत्तर दक्षिणी गर्त समुद्र तल से 0.9 किलोमीटर ऊपर स्थित है जो उत्तर आंतरिक कर्नाटक से आंतरिक तमिलनाडु तक बनी हुई है।
06 अप्रैल, 2021 से एक ताजा पश्चिमी विक्षोभ से पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र के प्रभावित होने की संभावना है।
अगले पांच दिनों के लिए मौसम का पूर्वानुमान 10 अप्रैल, 2021 को 0830 आईएसटी तक

मौसम विज्ञान उप-खंड वार 5 दिनों का विस्तृत तापमान अनुमान को तालिका -1 में दिया गया है।
अगले 24 घंटों के दौरान उत्तर-पश्चिम भारत के अधिकांश हिस्सों में अधिकतम तापमान में कोई महत्‍वपूर्ण बदलाव होने की संभावना नहीं है। इसके बाद तापमान में 3-4 डिग्री सेल्सियस की गिरावट आने का अनुमान है।
अगले 4-5 दिनों के दौरान मध्य भारत के अधिकांश हिस्सों में अधिकतम मापमान में 2-3 डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी होने की संभावना है।
पश्चिम पूर्वी भारत के अधिकांश हिस्‍सों और पश्चिम भाग के कुछ भागों में अगले 24 घंटों के दौरान अधिकतम तापमान में कोई बड़ा बदलाव होने की संभवना नहीं है। इसके बाद तापमान 2-3 डिग्री सेल्सियस वृद्धि होने की संभावना है।
अगले 2-3 दिनों के दौरान दक्षिण प्रायद्वीपीय भारत के अधिकांश हिस्सों में न्‍यूनतम तापमान में 2-3 डिग्री सेल्सियस कमी आने की संभावना है।
जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, गिलगित-बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में कहीं कहीं पर हल्की बारिश होने / बर्फबारी की संभावना है।
अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, केरल, माहे, तटीय और दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, तमिलनाडु, पुदुचेरी, कराईकल, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, ओडिशा, गंगीय पश्चिम बंगाल, झारखंड, विदर्भ, तेलंगाना, छत्तीसगढ़ और द्वीप समूह में कहीं-कहीं पर छिटपुट बारिश होने, बादल गरजने और बिजली चमकने की संभावना है।
देश के बाकी हिस्सों में शुष्क मौसम की संभावना है।

बाद के दो दिनों यानी 10 अप्रैल, 2021 से 12 अप्रैल, 2021 तक मौसम का रुझान
जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, गिलगित-बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में कहीं-कहीं हल्की वर्षा / बर्फबारी होने की संभावना।
अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, केरल और माहे, तटीय और दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, तमिलनाडु, पुदुचेरी और कराईकल, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम, ओडिशा, गंगीय पश्चिम बंगाल, झारखंड, विदर्भ, तेलंगाना, छत्तीसगढ़ और द्वीप समूह में गर्जना/बिजली चमकने के साथ छिटपुट वर्षा होने की संभावना है।
देश के बाकी हिस्सों में मौसम शुष्क रहने की संभावना है।

अगले 5 दिनों के दौरान मौसम की चेतावनी *

05 अप्रैल (दिन 1): हिमाचल प्रदेश के कुछ स्‍थानों पर अलग-अलग स्थानों पर बादल गरजने, बिजली चमकने, ओलावृष्टि और तेज हवाएं (30-40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार) चलने की संभावना है। जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, गिलगित-बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद, उत्तराखंड और केरल और माहे में अलग-अलग स्थानों पर बिजली चमकने और तेज हवाएं (30-40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार) चलने, पंजाब, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, अरुणाचल प्रदेश, तटीय आंध्र प्रदेश और यानम, तेलंगाना, तमिलनाडु, पुदुचेरी और कराईकल के कुछ स्‍थानों पर बिजली चमकने की संभावना है।

पश्चिम राजस्थान के अलग-अलग स्थानों पर बादल गर्जने, तेज हवाओं (तेज हवाओं के साथ 30-40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार) के साथ धूल भरी आंधी चलने की संभावना है।
दक्षिण राजस्थान और विदर्भ के कुछ स्‍थानों पर गर्मी की लहर चलने की संभावना है।

06 अप्रैल (दिन 2): जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, गिलगित-बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के अलग-अलग स्थानों पर बादल गर्जने, बिजली, चमकने, ओलावृष्टि और तेज हवाएं (30-40 किमी प्रति घंटे तक पहुंचने की गति) चलने की संभावना है। पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली और केरल और माहे के अलग-अलग स्थानों पर बिजली चमकने और तेज हवाएं (30-40 किमी प्रति घंटे तक की गति) चलने की संभावना है।

पश्चिम राजस्थान में अलग-अलग स्थानों पर बदल गर्जने/ तेज हवाओं के साथ धूल भरी आंधी चलने की संभवना है।
पूर्वोत्तर राजस्थान और विदर्भ के ऊपर अलग-अलग स्‍थानों पर गर्म लहर चलने की संभावना है।
जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, गिलगित-बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद और हिमाचल प्रदेश में अलग-अलग स्‍थानों पर भारी वर्षा और बर्फबारी होने की संभावना है।

07 अप्रैल (दिन 3): उत्तराखंड में अलग-अलग स्थानों पर बिजली चमकने, बादल गर्जने, ओलावृष्टि और तेज हवाएं चलने की संभावना है। जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, गिलगित-बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, पश्चिम उत्तर प्रदेश, केरल और माहे में अलग-अलग स्थानों पर बिजली चकमने और तेज हवाएं चलने की संभावना है।

पश्चिम राजस्थान के अलग-अलग स्थानों पर बादल गर्जने 30-40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार वाली) तेज हवाएं चलने की संभावना है।
मध्य प्रदेश और विदर्भ के ऊपर अलग-अलग स्‍थानों पर गर्मी की लहर चलने की संभावना है।
उत्तराखंड के अलग-अलग स्‍थानों पर भारी बारिश/ बर्फबारी होने की संभावना है।

8 अप्रैल (दिन 4): झारखंड, केरल और माहे में अलग-अलग स्थानों पर बादल गर्जने, बिजली चमकने और 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार वाली तेज हवाएं चलने तथा अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा और लक्षद्वीप में बिजली चमकने की संभावना है।

मध्य प्रदेश में अलग-अलग स्‍थानों पर गर्मी की लहर चलने की संभावना है।

09 अप्रैल (दिन 5): झारखंड और केरल में अलग-अलग स्थानों पर बादल गरजने, बिजली चमकने और तेज हवाएं (30-40 किमी प्रति घंटे गति) चलने तथा अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, नगालैंड, मणिपुर, मिज़ोरम और त्रिपुरा और लक्षद्वीप में बिजली चमकने की संभावना है।

मध्य प्रदेश में अलग-अलग स्‍थानों पर गर्मी की लहर चलने की संभावना है।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: