google-site-verification=T3FY5sztK2346btUIz-KVJq_4hP7OPE7HkLHoHYmQto

शारीरिक शिक्षा और खेलकूद में भी है कैरियर की अपार संभावनाएं पेफी के द्वारा आयोजित चर्चा में एक्सपर्ट ने रखी राय.

फिजिकल एजुकेशन फाउंडेशन ऑफ़ इंडिया (पेफी) के द्वारा प्रगति मैदान में तीन दिवसीय स्पोर्ट्स इंडिया प्रदर्शनी के दोरान शारीरिक शिक्षा और खेलकूद में कैरियर की संभावनाओं पर एक चर्चा का आयोजन किया जिसमे खेल और शारीरिक शिक्षा से जुड़े हुए विशेषज्ञों ने अपनी राय रखते हुए देश में इस विषय में भविष्य की संभावनाओं पर अपनी बात रखी.
कार्यक्रम में विषय विशेषज्ञ के रूप में लक्ष्मीबाई राष्ट्रीय शारीरिक शिक्षा संस्थान ग्वालियर के पूर्व निदेशक डॉ. अरुण कुमार उप्पल, नेहरु युवा केंद्र के पूर्व महानिदेशक, मेजर जनरल दिलावर सिंह, दिल्ली फार्मा विश्वविद्यालय के वीके चांसलर प्रोफ़ेसर आर के गोयल, जे एन यु के खेल निदेशक डॉ. विक्रम सिंह, लेडी श्रीराम कॉलेज की व्याख्याता मीनाक्षी पाहुजा, कुह स्पोर्ट्स के निदेशक संजीव चौधरी जी और क्योर फिट से बिबिन जोसेफ ने वर्तमान समय में देश में इस विषय में भी कैरियर की संभावनाओं पर चर्चा की.

लक्ष्मीबाई राष्ट्रीय शारीरिक शिक्षा संस्थान ग्वालियर के पूर्व निदेशक डॉ. अरुण कुमार उप्पल ने कहा की खेलों में अब वैज्ञानिक रूप से बड़ा वदलाव आया है और अब केवल पुराने कोर्स और विषय से देश खेलों में तरक्की नहीं कर सकता है, अभी हाल ही में खेल एवं युवक कल्याण मंत्रालय ने देश में खेलों के क्षेत्र में नए कोर्सेज चालु किये है जिसकी सभी को जानकारी होना बहुत जरूरी है. सरकार ने SPORTS NUTRITION, SPORTS BIOMACHANICS, SPORTS PSYCHOLOGY, SPORTS MANAGEMENT जैसे कोर्सेज अलग अलग विश्विद्यालय में शुरू किये है.

वही दुसरे विशेषज्ञों ने बताया की देश का खेल उद्योग बहुत ही तेज गति से आगे बड़ रहे है, आगे आने वाले समय में देश के खेल उद्योग को बड़ी संख्या में प्रशिक्षित लोगो की जरूरत होगी और ऐसे समय में जब देश में खेलो इंडिया और फिट इंडिया जैसे मूवमेंट चालु होने से पूरे देश में खेलो के प्रति जागरूकता आई है जिसकी वजह से यहाँ प्रशिक्षित लोगो की जरूरत बड़ी है.

इस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में स्कूल और कॉलेज के छात्र छात्राओं ने भाग लिया और अपनी शंकाओं का समाधान किया

Please follow and like us:
error
%d bloggers like this: