बिल्डर नें अपने पैसे लिए और सरकार ने अपने, लेकिन घर खरीदार को कौन सुनेगा ?

नोएडा समाज जागरण 10 अक्टूबर 2021

घर खरीदारोंं को उनका घर कौन देगा ? बिल्डर ने अपने पैसे लेकर अपने जेब भर लिए और सरकार नें अपने पैसे लिए। लेकिन घर खरीदारों को दर-दर भटकना पड़ रहा है। सरकार बदलती है लेकिन नियत नही बदलते। जाहिर सी बात है कि हरेक पार्टी को चुनाव लड़ने के लिए धन की जरूरत है और धन देने वाले लोग है बिल्डर। दूसरा पहलू ये भी है कि बिल्डर जितने भी या तो राजनीतिक से गहरा संबंध रखते है या फिर राजनीतिक के लिए चंदा देते है। घर खरीदार अपने धन देकर भी सड़क पर है और बिल्डर इनका पैसा लेकर मौज उड़ा रहे है। किसी को घर नही मिला है, तो किसी को घर का रजिस्ट्री नही किया गया है। जिनकों ये दोनों मिल भी गया है वह लोग दिन रात सुविधाओं के लिए त्रस्त है। कंस्ट्रक्शन इतना घटिया किया गया है कि लोग घर में रहकर भी दहशत में जीते है।

मेफेयर सोसायटी के निवासी 16 सप्ताह से लगातार धरना देकर मूल-भूत सुविधाओं के लिए जुझ रहे है लेकिन ऐसा लगता है जैसे इस शहर और प्रदेश में इनका कोई सुनने वाला नही है। निवासी लगातार प्रदेश के मुख्यमंत्री और क्षेत्र के सांसद और विधायक से गुहार लगा रहे है, प्राधिकरण से हस्तक्षेप करने की मांग कर रहे है लेकिन इस अजनबी शहर में घर खरीदार को अकेले जुझने के लिए छोड़ दिया गया है। सरकार सुस्त और बिल्डर खुश। निवासियों नें पट्टी लेकर लिखा है पहले सुविधा दिखाईये फिर उसका शुल्क पाईये। यह बात समझने के लिए काफी है कि बिल्डर सोसायटी में मैटेनेंस और मूलभूत सुविधाओं को लेकर शुल्क तो लेते है लेकिन उनकों सुविधा देने में आनाकानी करते है या देते ही नही है। बिखरा हुआ घोसला अब नही टुटेगा हौसला।

क्या इन निवासियों का यह गुनाह है कि इन्होनें नोएडा ग्रेटर नोएडा में अपने लिए सपने की घर खरीदा है। आखिर कब तक इनके सवर का इंतहा लिया जयेगा। मेफेयर सोसायटी नोएडा एक्सटेशन में है जहाँ पर रेजिडेंट लगातार 16 हप्ते से बिल्डर के खिलाफ धरना प्रदर्शन कर रहे है।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: