नोएडा स्ट्रेलर ग्रीन पार्क गेट पर बढता जा रहा है अतिक्रमण, जिम के उखड़ चुके है टाइल्स

नोएडा सेक्टर 43 स्ट्रेलर ग्रीन पार्क एक तरफ जहाँ अतिक्रमण का शिकार हो चुका है वही दूसरी तरफ शाम के अंधेरे में अश्लील हरकत करने वालों के अड्डा भी बन चुका। पार्क के मैन गेट पर रेहड़ी पटरी और नारियल वालों का कब्जा हो चुका है वही पार्के के अन्दर कुते का आतंक घुमने वालों के एक मुसीबत बनता जा रहा है।

नोएडा सेक्टर 43 स्थित स्ट्रेलर ग्रीन पार्क है, जो कि सदरपुर और छलेरा गाँव के अन्दर एक ही बड़ा पार्क है। जिसमें शाम के समय मेला के जैसा लगा रहता है। क्योंकि क्षेत्र की आबादी ज्यादा है और नोएडा के बीच के एरिया है तो बाहर के किरायेदार भी यहाँ पर रहना बखूबी पसंद करते है। पार्क में एक साल पहले ही जिम लगाया गया था जिसका हालत खस्ता हो चुका है, लेकिन उस पर कोई ध्यान नही दिया जा रहा है। जहाँ नीचे की टाईल्स उखड़ चुका है वही दूसरी तरफ कुछ मशीन भी खराब हो चुका है।

इसके अलावा मैन गेट पर रेहड़ी पटरी वालों के जमावड़ा बखूबी देखा जा सकता है। इसी के आड़ लेकर अराजकता और मनचले शरारती तत्व भी रहते है, जो कि आते जाते महिलाओं पर छिटाकशी और छेड़खानी करने के काम करते है। लेकिन प्राधिकरण के सीओं रितु महेश्वरी के आदेश के बावजूद प्राधिकरण के लोग यहाँ झाकने को तैयार नही है। पार्क में प्रवेश करने वाले गेट के सामने ही जहाँ एक तरफ ठेली और चाय की दुकान लगी रहती है वही दूसरी तरफ मोटरासाईकिल या गाड़ी पार्क किया जाता है जिससे पार्क में आने जाने वालों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा है। प्राधिकरण के द्वारा बनाये गए वेंडिंग जोन में बस खड़ा किया जाता है और पार्क के गेट पर दुकान लगाये जा रहे है।

पार्क में कुत्ते घुमाने वालों को महिलाओं ने सिखाया सबक

एक तरफ जहाँ पार्क में लोग ठंडी हवा लेने आते है वही दूसरी तरफ कुछ लोग कुता घुमाने के लिए भी पार्क पहुँच जाते है। बात इतने तक ही नही पार्क में कुते को खुले छोड़कर बैठ जाते है जिसके कारण पार्क में खेल रहे छोटे बच्चों में डर का माहौल बना रहता है की कभी काट न ले। ऐसे ही कुत्ते घुमाने वालों को क्षेत्र के महिलाओं ने सबक सिखायी है। सिर्फ सबक ही नही सिखायी बल्कि आइंदा पार्क में कुता लेकर नही आने की सलाह भी दी। लेकिन इसके बावजूद लोग मानने को तैयार नही है।

पार्क के पीछे के साईड में पेड़ ज्यादा होने और एक लाईट नही जलने के कारण अंधेरा होते ही अश्लील हरकत करने वालों की जमावड़ा लगने लगता है। कई बार मना करने के बाद भी ये लोग बाज नही आते उलटे मना करने वाले पर ही उलझ जाते है और पुलिस में शिकायत करने की धमकी देते है। अश्लील हरकतो के कारण शरीफ शहरियों का घुमना और पार्क में बैठना दुभर होने लगा है। लोग डर के मारे कुछ कहना नही चाहते है और अश्लील हरकत करने वाले युवक युवतियाँ मानने को तैयार नही है। हालांकि कुछ महिलाओ नें का कहना था कि महिला पुलिस भी पार्क में आती जाती रहती है लेकिन उसका भी कोई असर नही पड़ता है। महिलाओं का कहना था कि जिस समय में महिला पुलिस आती है उस समय में पार्क में ऐसे ही भीड़ रहते है तो उस समय कुछ नही होता है।

गाँव के लोग पार्क के बराबर देख रेख करते है, गाँव के ही सीताराम जी लगातार पार्क में सेवा कार्य करते है और किसी प्रकार के हरकतों को रोकते है जिसमें गाँव के ही और लोग भी सहायता करते है। लेकिन कई बार आवारा टाईप के लड़के उनसे भीड़ जाते है और उनको देख लेने की धमकी देते है। इसके बावजूद लगातार 10 साल से पार्क की सेवा में लगे है।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: