समाजिक संकट का गहरा समुन्द्र है सोशल मिडिया, दिल्ली में जालसाजी का पर्दाफाश

सोशल मिडिया के क्रान्तिकारी दौर में इंसान बिल्कुल नंगा खड़ा है। क्योंकि उसे पता ही नही है कि किस पल में उसका एक अश्लील विडियों सोशल मिडिया पर तैरन लगे और सोशल मिडिया पर बैठे आईटी सेल के लोग बिना सोचे समझे उस पर ट्रैण्ड चलाने लगे। सोशल मिडिया के इस दौर में जरुरी हो चुका है कि समाज एकदम बेशर्म हो जाय। जानवरों की तरह। ऐसे कुछ लोग तो पहले से ही है जो किसी के साथ में रिलेशनशीप बना लेते है। अभिव्यक्ति के नाम पर आजादी की ये क्रान्ति मानव समाज के लिए संकट का गहरा समुन्द्र बन चुका है। लाभ और हानी है रेशो 60/40 का है।

क्योंकि ज्यादा शराफत में जियेंगे तो आपको ये सोशल मिडिया वाले जीने नही देंगे। जिसके कारण कई बार पीडितों को आत्महत्या तक करना होता है। सोशल मिडिया के जरिये आजकल इनकम और वो भी अथाह इनकम के रास्ते भी खुल रहे है। जिसमें हमने आपको बता ही दिया आईटी सेल में नौकरी कर लिजिए। दूसरा है सोशल मिडिया पर दोस्त बनाई उसके साथ विडियों लाईव कीजिए और रिकार्ड करके उसको ब्लैकमैलिंग कीजिए। इसके अलावा सोशल मिडिया पर चार्ट कीजिए और दोस्त बनाई उसका अकाउण्ट हैक कर लिजिए। ऐसे ढेर सारे मामले है जो कि सोशल मिडिया के जरिया प्रोफेेशनल तरीके से किये जा रहे है, जिसमें से एक फंड इकट्ठा करना भी है। अब तो पता चल रहा है कि उसी फंड से आतंकी संगठन भी चलाए जा रहे है।

एक ऐसा ही मामला दिल्ली से प्रकाश में आया है जिसमें एक व्यक्ति लक्ष्मीनारायण गुप्ता जो कि आम आदमी पार्टी के सदस्य है और एनटी क्राईम आर्गानाईजेशन से भी जुड़े हुए है। उनको पहले मैसेज किया और फिर अश्लील तस्वीरे साझा की गई। इतना सबकुछ होने के बाद विडियों काल किया गया और फिर ओरल सैक्स करने के लिए कहा गया। इतने में उनके विडियो बना लिया और उनको ब्लैकमेंलिंग करने लगे। ब्लैकमेंलिंग के बाद उन्होने दो बार पैसे भी भेज दिए। अब प्लानिंग एडवाईजर नेशनल एनटी करप्शन शिखा जैसा ने मिडिया में इसका खुलाशा किया है।

ऐसे ही होते है पूरे खेल
पहले आपके Whatsap पर मैसे भेजकर दोस्ती करती है फिर एक अश्लील फोटो भेजती है,और फिर विडियों चैटिंग। विडियों चैटिंग के दौरान ही आपका विडियों बना लेती है या लेता है। शातिर लोग पूरी टीम के साथ होते है।

विडियों बनाने के बाद तुरंत ही फोन करते है और फिर क्या होता है यह तो सबको अंदाजा है इस सोशल मिडिया के दौर में। विडियों वायरल करने की धमकी। फिर पैसे की डिमांड किया जाता है। जब तक आप पैसे देते रहेंगे तब तक ठीक है लेकिन जिस दिन मना किया विडियों वायरल की धमकी दुबारा से दिया जायेगा। ब्लैकमैलिंग का यह धंधा दिन रात चल रहा है। इसके दबाब में आकर कुछ लोग सबकुछ लूटा लेते है वही कुछ लोग अपनी जान तक गवा बैठते है। कारण ब्लैकमेंलिंग से आया डिप्रेशन और समाज में किस मुंह से बात करेंगें। यह जानते हुए कि इसका गुनहगार नही है, कैसे कहे कि तलफदार हम नही है। हम समाज को कैसे विश्वास दिलायेंगे की यह हमारे साथ खेल हुआ है।

दिनों दिन बढते सोशल मिडिया फ्राड के बाद भी भारत के सरकार और साईबर सेल घोड़ा बेचकर सो रहा है। क्योंकि उसका क्या है जिसका गया उसका। हम सभी जानते है कि जितनी भी सोशल मिडिया हो, फोन काल हो सबके सब किसी न किसी मोबाईल नंबर से आपरेट किया जाता है। यह नंबर भी किसी न किसी एक्सचेंज से होकर गुजरता है। आखिर इतने सबकुछ होने के बाद भी पुलिस उन्हे पकड़ क्यों नही पाती है। आखिर उस टेलीकाम कंपनी पर सख्ती क्यों नही की जा रही है जो झारखंड के जावेद को दंगा फैलाने के लिए 1 हजार मोबाईल सिम देती है।

अब जबकि दिल्ली में यह ब्लैकमेंलिंग कांड का खुलासा किया गया है। क्योंकि लक्ष्मीनारायण गुप्ता कोई साधारण आदमी नही स्वयं एनटी क्रप्शन से जुड़े हुए है। अब सरकार इस पर क्या कारवाई करती है इस पर निर्भर करता है कि कितना महत्व देती है इस ठगी का। ऐसा केस देश भर में हो रहा है। बिहार में एक महिला से जो दिन खाती है और रात को सोचती है क्या खाय, लाटरी के लालच देकर 25 हजार रूपया ठग लिया गया और उसे ब्लैकमेलिग का धमकी दिया गया।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: