शिवा आंध्र प्रदेश के रहने वाले हैं और रक्तदान के लिए लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से 7100 किलोमीटर की पैदल यात्रा

शिवा मोक्ष की धरती गया में है। गया में शिवा का स्वागत एवं प्रोत्साहन संस्था ग्लैड भारत फाउंडेशन के संरक्षक मो शमशेर खान (सेवानिवृत्त प्राचार्य, जिला स्कूल,गया) तथा संस्था के संस्थापक इं अहमद अब्दुल्लाह शहबाजी, कोषाध्यक्ष विशाल कुमार पासवान, गुलजार के द्वारा किया गया। शिवा आंध्र प्रदेश के रहने वाले हैं और इनकी भाषा तेलुगु है। हिंदी भाषी क्षेत्र में भाषा की वजह से आने वाली समस्याओं के को कम करने के लिए संस्था ग्लैड भारत फाउंडेशन द्वारा एक हिंदी में पत्र जारी किया गया जिसके माध्यम से शिवा को विश्राम और भोजन के लिए लोगों की मदद उपलब्ध कराई जा सके और इन्हें रोड के किनारे ना सोना पड़े। आंध्र प्रदेश से शुरू हुई है पैदल पैदल यात्रा 7100 किलोमीटर का सफर तय करते हुए दिल्ली में 26 जनवरी 2022 को समाप्त होगी अब तक की पैदल यात्रा के माध्यम से शिवा ने 20 राज्यों के कस्बों गांवों एवं शहरों के लोगों को रक्तदान के लिए जागरुक एवं प्रेरित किया है। निस्वार्थ भाव से राष्ट्र निर्माण के लिए शिवा ने इस यात्रा को शुरू किया। जहां भी ठहरते हैं वहां पर सोनू सूद के द्वारा दिए हुए टेंट को रोड किनारे लगाकर विश्राम करते हैं।
अब तक 1 करोड़ से अधिक लोगों को शिवा रक्तदान के लिए प्रेरित कर चुके हैं।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: