fbpx

*शिक्षकों का समाज मे बढ़ता दबदबा*,

न्यूज़ फ़्लैश

*डॉ. जीतेन्द्र पाण्डेय को काका कालेलकर पुरस्कार*

सेंट पीटर्स संस्थान के हिंदी विभागाध्यक्ष एवं युवा साहित्यकार डॉ. जीतेन्द्र पाण्डेय को उनके *चर्चित यात्रा वृत्तांत “देखा जब स्वप्न सवेरे*” के लिए *महाराष्ट्र राज्य हिंदी साहित्य अकादमी की ओर से काका कालेलकर पुरस्कार की घोषणा की गई है* । ध्यातव्य है डॉ. पाण्डेय ने ‘साहित्य की संतुलित दृष्टि’, ‘कविता में जीवन’ तथा ‘काव्य विवेक और निबन्ध लालित्य’ जैसे समीक्षा ग्रन्थ भी लिखे हैं । इसके अलावा ‘साहित्य मसीहा की यात्रा’ का संपादन एवं ‘व्याकरण वृक्ष’ का सहलेखन किया है । देश की प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में इनका शोध आलेख प्रकाशित होता रहता है ।
डॉ जीतेन्द्र पाण्डेय को अब तक *केंद्रीय राजभाषा हिंदी विकास परिषद का ‘ साहित्य भूषण सम्मान’, इंटरनेशनल प्रेस कम्युनिटी का ‘शिक्षा रत्न अवार्ड’, भारती प्रसार परिषद का ‘ भारती युवा साहित्यकार सम्मान’ तथा वैदिक दर्शन प्रतिष्ठान का ‘वैदिक सहित्यश्री सम्मान’ प्राप्त हो चुका है* ।
डॉ. जीतेन्द्र को यह राज्य स्तरीय पुरस्कार मुंबई में चर्चगेट स्थित के.सी. महाविद्यालय के रामा और सुंदरी वाटूमल सभागृह में 1 मार्च 2019 को सायं 6 बजे प्रदान किया जाएगा । इस उपलब्धि के लिए सर्वश्री प्राचार्य डॉ. विल्फ्रेड नरोन्हा, प्राचार्य रामनयन दूबे, सुनील माने, महेंद्रमणि पांडेय, मुन्ना यादव ‘मयंक’, सुनील कांबले, पंडित प्रभारंजन पाठक, मंगलदेव तिवारी, सुमन मिश्रा, राम शेळके आदि शुभचिंतकों ने अपनी-अपनी विसेष शुभकामनाएं व्यक्त की ।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: