नोएडा में महिला पथ विक्रेताओं के लिए बनेंगे अलग वेंडिंग जोन, प्रस्ताव को हरी झंडी

समाज जागरण नोएडा

महिला सशक्तीकरण के तहत महिला विक्रेताओं के लिए शहर में अलग वेंडिग जोन बनाया जाएगा, जिसमें महिलाएं ही व्यापार कर सकेंगी। यह महिला है बाजार, जिसमें खाने-पीने के सामान फल सब्जियों से लेकर कपड़े इत्यादि की दुकानें सिर्फ महिलाओं के लिए ही सुरक्षित होंगी।

महिलाओं के लिए तैयार की जाने वाली इस बाजार के लिए शासन ने स्वीकृति दे दी है। करीब की ओर से महिलाओं को दुकानें आवंटित की जाएंगी। पिंक वेंडिंग जोन के माध्यम से महिलाओं को आर्थिक रूप से सशक्त करने का काम नोएडा विकास प्राधिकरण करेगी। माननीय मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश शासन आदरणीय मुख्य कार्यपालन अधिकारी एवं आदरणीय आदरणीय अपर मुख्य कार्यपालक अधिकारी नेहा मैम
की स्वीकृति मिल चुकी है
हमारे आदरणीय इंदु प्रकाश जी ने भी प्रपोजल को पास कर दिया है मैं सभी का आभारी हूं कि महिलाओं के लिए जो एक काम होने जा रहा है इसके लिए बहुत-बहुत धन्यवाद रेहड़ी पटरी संचालक वेलफेयर एसोसिएशन की तरफ से बहुत-बहुत धन्यवाद सभी अधिकारियों का आशा करता हूं कि हमारा शहर एक आदर्श शहर और महिलाओं को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी मैं सभी का अभिनंदन करता हूं श्याम किशोर गुप्ता रेहड़ी पटरी संचालक वेलफेयर एसोसिएशन नोएडा जिला गौतम बुध नगर

सबसे बड़ा योगदान हमारी महानगर अध्यक्ष अर्पणा शर्मा जी का रहा जो टाउन बिल्डिंग कमेटी सदस्य हैं उनका भी बहुत-बहुत धन्यवाद मैं करता हूं ऐसी महिलाओं को रोजगार मिलेगा जो अपने पैरों पर खड़ी होंगी अपना पालन पोषण अपने बच्चों का पालन पोषण करेंगे मैं पुनः एक बार सभी अधिकारियों को तहे दिल से शुक्रिया अदा करना चाहता हूं धन्यवाद माननीय मुख्य कार्यपालक अधिकारी का बहुत-बहुत धन्यवाद

उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार की इस योजना के तहत ऐसी महिलाओं का चयन किया जाएगा, जो गरीबी रेखा से नीचे हैं और जिन्हें वास्तविक रूप में रोजगार की आवश्यकता है। उनके जीवन स्तर को ऊपर उठाने के लिए इस महिला बाजार में उन्हें रोजगार के अवसर उपलब्ध कराए जाएंगे। निरुपमा बाजपेई ने बताया कि सौजन्या चौक से गांधी विद्यालय इंटर कॉलेज तक सड़क के दोनों ओर की दुकानों का निर्माण करा कर उसमें महिला विक्रेताओं को व्यापार के अवसर दिए जाएंगे।

फिलहाल यह भी देखना होगा कि बनेंगे कब तक ? क्या यह वेंडिंग जोन वेंडिंग माफियाओं से मुक्त होगा ? प्रस्ताव पास होना और उसे जमीनी हकीकत के बीच का अभी लंबा रास्ता तय करना बांकि है।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: