जालसाजी के शिकार वरिष्ठ पत्रकार, जालसाज नें ठगे 2.5 करोड़ रुपये, अब दे रहा है जान से मारने की धमकी

समाज जागरण नोएडा

जालसाजी के शिकार हुए वरिष्ठ पत्रकार, जालसाज नें ठगे 2.5 करोड़। एक ही जमीन को कर दिया दो लोगों को सौदा। अब न तो पैसे लौटा रहा है न तो बैनामा कर रहा है। न्यायालय के आदेश पर हुआ मुकदमा दर्ज। जालसाज अपने आप को बताता है 1600 से ज्यादा आईएस आईपीएश बनाने वाला। पीएमओ तक पहुँच का देता है धमकी। खुद को भू-वैज्ञानिक और सरकार के सलाहकार बताकर लिया लोगों को झांसे में। मिली जानकारी के मुताबिक जालसाज विजय माल्या की तरफ विदेश निकलने की फिराक में है।

आम लोगों केै साथ धोखाधड़ी तो आम बात है लेकिन इस बार मामला थोड़ा अलग है क्योंकि इस बार जालसाज ने एक ऐसे व्यक्ति को अपना शिकार बनाया है जो कि एक वरिष्ठ पत्रकार और विशाल इंडिया समाचार पत्र हिंदी दैनिक समाचार पत्र के प्रधान संपादक भी है। मामला ताजा मामला यमुना विकास प्राधिकरण के भूखण्ड संख्या-21 पॉकेट-ए सैक्टर-20 में स्थित 4000 वर्ग मीटर क्षेत्रफल के भूखण्ड का हैं। जहाँ आवंटी कुमार सिद्दार्थ पुत्र राजदेव शर्मा निवासी-ए-23 निकट कंचनजंघा मार्केट सैक्टर-53 नोएडा जिला गौतमबुद्धनगर ने एक भूखण्ड को दो अलग- अलग व्यक्तियों को बेचकर उनसे करोड़ों रुपये ठग लिए हैं। सिद्धार्थ पुत्र राजदेव शर्मा ना तो भूखण्ड खरीदने वाले लोगो के पैसे लौटा रहा है और ना ही भूखण्ड का बैनामा कर रहा है।

अपने आप को आईएस और आईपीएस के गुरु कहने वाला व्यक्ति इतना बड़ा जालसाज निकलेगा यह किसी ने सपने में भी नही सोचा होगा। बता दे कि जाल साज अपने आपको 1600 आईएस औऱ आईपीएस आईआरएश बनाने का दावा करता है। यह भी कहता है कि उसका पहुंच पीएमओ तक है। अपने आपको प्रतिष्ठा प्राप्त गुरु और लोगों के मार्गदर्शक भी बताते है। सबसे बड़ी बात प्रभाव का अंदाजा तो इस बात से लगाया जा सकता है कि उनकी लिखित नई किताब अंतरिक्ष का उद्घाटन करने स्वयं कम्यूनिकेशन मिनिस्टर भारत सरकार पधार रहे है।
सिद्धार्थ ने पहले अपने इसी भूखण्ड को ममता राय को विक्रय कर उनके साथ धोखाधड़ी की। ममता राय ने बताया कि कुमार सिद्वार्थ ने उनके आवासीय प्लॉट संख्या 21 ब्लॉक ए क्षेत्रफल 4000 वर्गमीटर स्थित सैक्टर 20 यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण ग्रेटर नोएडा थाना बीटा टु जिला गौतमबुद्धनगर का कुल प्रतिफल अंकन रूपये 4,88,00,000 रूपये में क्रय करने का सौदा किया था। ज़ेवर मैं अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट आने की वजह से यमुना प्राधिकरण के रेटों में ज़बरदस्त उछाल आया हैं। रेट बढ़ जाने के कारण सिद्धार्थ के मन मै बेमानी आ गया और उसने साजिश के तहत 60 लाख रूपये अग्रिम की चिंता ना करते हुए दूसरे ख़रीदार से 3 करोड़ से ज़्यादा की रक़म ले ली।

साजिश के तहत बताया गया कि विपक्षी के अथक प्रयासों के उपरांत भी किसी ने किसी कारणवश यमुना एक्सप्रेसवे विकास प्राधिकरण द्वारा उपरोक्क्त भूखण्ड संख्या-21 ब्लॉक ए 4000 वर्गमीटर स्थित सैक्टर 20 ग्रेटर नोएडा का पटटा प्रलेख आजतक निष्पादित कराकर पंजीकृत नहीं कराया जा सका है और विक्रय अनुबंध को निरस्त एवं निष्प्रभावी होने की सूचना दी गयी। इस प्रकार 61 लाख रूपये जानबूझकर बेईमानी पूर्वक ममता राय को अवैध हानि करने व स्वयं अवैध लाभ अर्जित करने व अमानत में ख्यानत कारित करने के उददेश्य से अनुबंध 23 अप्रैल 2021 को निरस्त एवं खण्डित

सिद्धार्थ द्वारा दूसरी धोखाधड़ी की घटना वरिष्ट पत्रकार जितेन्द्र चौधरी के साथ की गई है। उन्होंने बताया क़ि कुमार सिद्धार्थ निवासी-ए-23 निकट कंचनजंघा मार्केट सैक्टर-53 नोएडा जिला गौतमबुद्धनगर अपनी पत्नी एस मुखर्जी के साथ उनके कार्यालय पर आये। सिद्धार्थ यमुना विकास प्राधिकरण के भूखण्ड संख्या-21 पॉकेट-ए सैक्टर-20 क्षेत्रफल 4000 वर्ग मीटर का आवंटी हैं । सिद्धार्थ व उसकी पत्नी एस मुखर्जी ने अपने उक्त प्लॉट को बेचने का सौदा अंकन 6,90,00,000 रूपये में जितेंद्र चौधरी के साथ कर लिया और 2 करोड़ 62 लाख रुपए ले लिए।

सिद्धार्थ ने जितेन्द्र चौधरी के पक्ष में एक एग्रीमेन्ट टू सेल दिनांकित 25 दिसम्बर 2021 हस्ताक्षरित करा दिया तथा कुल 2,62,43,735 रूपये कुल सिद्धार्थ ने प्राप्त कर लिए तथा एग्रीमेन्ट के अनुसार 5 अप्रैल 2022 तक अपनी बकाया धनराशि 4,27,56,265 रूपये प्राप्त करके उक्त भूखण्ड संख्या-ए-21 सैक्टर-20 यमुना विकास प्राधिकरण क्षेत्रफल 4000 वर्ग मीटर का ट्रान्सफर व सबलीज डीड जितेन्द्र चौधरी के पक्ष में कराना तय हुआ था। परन्तु जितेन्द्र चौधरी को ज्ञात हुआ कि सिद्धार्थ व उसकी पत्नी एस मुखर्जी ने अपने उक्त भूखण्ड को पूर्व में ममता राय पत्नी शशि भूषण निवासी मकान संख्या-391 द्वितीय तल इन्द्रापुरम गाजियाबाद के साथ भी 20 अप्रैल 2021 एग्रीमेंट टू सेल करके उनसे भी लगभग 61 lakh रूपये प्राप्त कर लिये हैं। इस प्रकार सिद्धार्थ व उसकी पत्नी एस मुखर्जी ने झूठ बोलकर फर्जी एवं कूट रचित दस्तावेज तैयार करके 2,62,43,735 रूपये का गबन कर लिया है।

एग्रीमेन्ट के अनुसार वैनामा कराने की तिथि बीत जाने के उपरान्त भी सिद्धार्थ व उसकी पत्नी एस मुखर्जी ने जितेन्द्र चौधरी के पक्ष में उक्त भूखण्ड का बैनामा नही कराया है। 12 अप्रैल 2022 को जब जितेन्द्र चौधरी ने सिद्धार्थ व उसकी पत्नी एस मुखर्जी से उक्त वर्णित भूखण्ड का बैनामा कराने के लिए कहा तो सिद्धार्थ व उसकी पत्नी एस मुखर्जी ने उनके साथ गाली-गलौज की और प्रार्थी को जान से मारने की धमकी देते हुए प्रार्थी से कहा कि तुम अपने 2,62,43,735 रूपयों को भूल जाओ।अब हम तुम्हें ना तो उक्त भूखण्ड देगें और ना ही तुम्हारा पैसा वापस करेगें हमारा यही धन्धा है हम भोले-भाले लोगो को अपने जाल में फंसाकर उनसे पैसे ऐंठ लेते हैं। सिद्धार्थ व उसकी पत्नी एस मुखर्जी ने जितेन्द्र चौधरी से झूठ बोलकर धोखाधड़ी से फर्जी एवं कूट रचित दस्तावेज तैयार करके 2,62,43,735 रूपये ऐंठ लिये है। अब जितेन्द्र चौधरी को सिद्धार्थ व उसकी पत्नी एस मुखर्जी से जान व माल का खतरा उत्पन्न हो गया है।धोखाधड़ी के शिकार जितेन्द्र चौधरी ने थाना बीटा टु पुलिस को प्रार्थना पत्र के माध्यम से सिद्धार्थ व उसकी पत्नी एस मुखर्जी के विरूद्ध रिपोर्ट दर्ज कर कानूनी कार्यवाही करने की माँग की है। देखना ये है अब पुलिस अपने आप को रसूखदार बताने वाले कुमार सिद्दार्थ के विरुद्ध क्या कार्यवाही करती है या ऐसे जालसाजों को आमजनों को ठगने के लिए खुला छोड़ देती है।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: