अभिभावकों एवं विद्यार्थियों की पीड़ा के साथ-साथ स्कूलो के ऑडिट करवाने का निवेदन

गौतमबुद्धनगर पेरेंट्स वेल्फेयर सोसाइटी (जीपीडब्ल्यूएस) का एक शिष्ट मंडल आखिर एक माह के अथक प्रयासों के बाद जिलाधिकारी से मिलने में सफल रहा और उनको अभिभावकों एवं विद्यार्थियों की पीड़ा के साथ-साथ स्कूलो के ऑडिट करवाने का निवेदन किया जिससे स्कूलो की आर्थिक स्थिति की जानकारी शासन-प्रशासन व अभिभावकों को हो सके।
शिष्ट मंडल की अगुवाई कर रहे जीपीडब्ल्यूएस के संस्थापक मनोज कटारिया ने बताया कि बच्चों को भारतीय संविधान व संस्कृति पढ़ाने वाले ये शिक्षा के मंदिर अब शासनादेश का उल्लंघन करने का पाठ पढ़ा रहे हैं तथा नैतिकता के की शिक्षा देने वाले शिक्षण संस्थान अब साहूकारों की तरह बच्चों की पढ़ाई बंद कर केवल फीस वसूलने की जुगत में लगे रहते हैं। जिला प्रशासन ने 5 अप्रैल को सभी स्कूलो के लिए एक आदेश जारी किया था कि किसी भी आधार पर किसी भी विद्यार्थी को कक्षा से वंचित नहीं किया जाये परन्तु अधिकांश स्कूलो में अभी भी फीस के कारण बच्चों की कक्षा बाधित है। अतिरिक्त मुख्य सचिव के 20 मई के आदेश में लिखा था कि स्कूल जिस सुविधा को विद्यार्थियों को मुहैया नहीं करा पा रहा हैं उसका शुल्क अभिभावकों से नहीं वसूले। लेकिन स्कूल अभी भी पूरी फीस लेने पर अड़ा हुआ है । अतिरिक्त मानव संसाधन विकास मंत्रालय के द्वारा 10 अगस्त 2020 को प्रकाशित की गई सिफारिशों को ठेंगा दिखा कर 5-6 घंटे ऑनस्क्रीन कक्षाये चलाई जा रही है। आर टी ई (शिक्षा के अधिकार) में भी निजी स्कूल गडबड झाला करने में भी पीछे नहीं है। कहने का तात्पर्य यह है कि स्कूल के सामने शासन प्रशासन सरकार व संविधान किसी की कोई अहमियत नहीं है।
मनोज कटारिया ने आगे बताया कि आज वार्ता में जिलाधिकारी महोदय से जिन बच्चों को ऑनलाइन क्लास से बाधित किया गया है उन्हें तुरंत क्लास में जोड़ा जाने का आग्रह किया है तथा गाजियाबाद की तरह ही गौतमबुद्धनगर में भी स्कूलो के खातों का ऑडिट करवाये जाने का निवेदन किया इसपर जिलाधिकारी महोदय ने गाज़ियाबाद जिलाधिकारी द्वारा करवाये गए स्कूलो के ऑडिट की कॉपी देने के लिए कहा है जो हम जल्दी ही उनको सौप देंगे। हमने जिलाधिकारी महोदय को बताया कि इन स्कूलो का ऑडिट होने से स्कूलो की आर्थिक स्थिति स्पष्टतया सामने आयेगी और अभिभावकों को फीस में राहत दिलवाने में मददगार साबित होगी। इसलिए आप स्कूलो के ऑडिट को प्राथमिकता देने की कृपा करें।
जिलाधिकारी के साथ वार्ता करने गये जीपीडब्ल्यूएस के उपाध्यक्ष योगेश भगौर के साथ सहायक कोषाध्यक्ष विजय श्रीवास्तव तथा संगठन सचिव धर्मेंद्र नंदा ने बताया कि हमने स्कूलो द्वारा सरकारी आदेशों का पालन नहीं करने की बात भी कही है इस पर जिलाधिकारी महोदय ने केवल जिला विद्यालय निरीक्षक के द्वारा एक्शन लेने का आश्वासन दिया।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: