सौलत पब्लिक लाइब्रेरी के अध्य्क्ष सीनियर एडवोकेट शौकत अली खान के अचानक हुए इंतेकाल पर दिली

रामपुर। रामपुर की मशहूर और मारूफ शखिसयत सौलत पब्लिक लाइब्रेरी के अध्य्क्ष सीनियर एडवोकेट शौकत अली खान के अचानक हुए इंतेकाल पर दिली मलाल और अफसोस का इजहार करते हुए कांग्रेस नेता आसिम खान ने कहा मरहूम मेरे बड़े करम फरमा और दुआ गो हमदर्द बुजुर्ग दोस्त और साथी थे। उनका हमारे बीच से यूं चले जाना रामपुर की अदबी सियासी समाजी व मिल्ली दुनिया का बड़ा नुकसान है जिसकी भरपाई मुमकिन नही। वह जिन्दगी के हर एक पहलू पर निगाह रखते थे बहुत से आंदोलन किये जनता के हक की लड़ाई लड़ी कई शेरी मजमुए व तारीख ए रामपुर किताब भी लिखी। मुस्लिम रिजर्वेशन फ्रंट जैसे बड़े प्लेटफार्म के बैनर तले गरीब और पिछड़े मुस्लिमों के सरकारी नोकरियो और तालीम में रिजर्वेशन दिये जाने की मांग को लेकर कई वर्ष आंदोलन चलाया। इस लड़ाई में हम उनके साथ रहे उनकी सरपरस्ती में बहुत कुछ सीखने को मिला। आसिम खान कहा मरहूम की यही खूबी थी वह जीवन की आखरी सांस तक संघर्ष करते रहे वह बेशक आज हमारे बीच नही हैं मगर हमारे दिलों में हमेशा जिंदा रहेगे। उधर, कांग्रेस महासचिव अरशद अली खां गुड्डू ने भी शौकत अली खां के आवास पर जाकर अफसोस व गम इजहार करते हुए कहा कि मरहूम शौकत खां से जो सियासी व अदबी दुनिया में खला पैदा हो गया हैं उसका पूरा होना मुमकिन ही नहीं हैं न मुमकिन हैं।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: