ज्यूरी के मासूम के हत्यारे की गिरफ्तारी के लिए प्रखंड कार्यालय पर दिया धरना

थानाध्यक्ष एवं आईओ को बर्खास्त करने की उठी मांग
पकरीबरावां(नवादा) पकरीबरावां थाना क्षेत्र के ज्यूरी गांव के मासूम की हत्या को लेकर मंगलवार को परिजनों एवं ग्रामीणों ने धरना प्रदर्शन किया।
मो. वाहिद के 5 वर्षीय पुत्र अबू तालिब की अपहरण के बाद हत्या से गुस्साए ग्रामीणों ने हत्यारे की गिरफ्तारी, पकरीबरावां थानाध्यक्ष व केस के अनुसंधानकर्ता मनीष कुमार को बर्खास्त करने तथा इस केस को सीबीआई को ट्रांसफर करने की मांग को लेकर पकरीबरावां प्रखंड कार्यालय पर धरना दिया। मृतक के पिता मो. वाहिद व राजद के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष रहे कमरूलवारी धमौलवी के नेतृत्व में ज्यूरी समेत पकरीबरावां प्रखंड के विभिन्न इलाकों से पहुंचे परिजनों के सुभचिंतक धरना प्रदर्शन में शामिल हुए। बड़ी संख्या में शामिल महिलाओं में भी आक्रोश दिख रहा था।
धरना को संबोधित करते हुए कमरूलवारी ने कहा कि पुलिस की लापरवाही से मासूम की जान गई है। 48 दिनों में भी पुलिस बच्चे को खोज नहीं सकी। पकरीबरावां थानाध्यक्ष एवं आईओ द्वारा पूरे मामलें में घोर लापरवाही बरती गई है। नतीजा हत्यारा अपनी नापाक मंसूबों में कामयाब हो गया। उन्होंने कहा कि पुलिस मामलें में परिजनों को बरगलाती रही। आखिर में जब थाना पर धरना प्रदर्शन किया गया, तब पुलिस हरकत में आई। तब तक देर हो चुकी थी। धरना के दो दिन बाद बच्चे की डेड बॉडी बरामद हुई।
मृतक मासूम के पिता मो. वाहिद ने कहा कि बच्चे की बरामदगी के लिए थाना का चक्कर लगाते लगाते थक गए, परंतु पुलिस की तरफ से कोरा आश्वासन ही मिला। पुलिस को कुछ इनपुट भी दिए गए, परंतु पुलिस इस पर भी लापरवाह बनीं रही। उन्होंने सीधे तौर पर हत्या को लेकर पुलिस पर लापरवाही जैसे गंभीर आरोप लगाए।
अन्य वक्ताओं ने भी पुलिस को आड़े हाथों लेते हुए थानाध्यक्ष एवं अनुसंधानकर्ता को बर्खास्त करने की मांग के साथ केस सीबीआई को ट्रांसफर करने की मांग की। वहीं, डेड बॉडी को बांस में टांगकर ले जाने को मानवाधिकार का उलंघन करार देते हुए मुख्यमंत्री से स्वतः संज्ञान लेने की मांग की।
धरना के बाद एक शिष्टमंडल ने मुख्यमंत्री के नाम प्रखंड विकास पदाधिकारी को ज्ञापन सौंपा।
इससे पहले आक्रोशित परिजनों एवं ग्रामीणों ने पकरीबरावां बाजार में विरोध प्रदर्शन किया।
हाथों में तख्तियां लिए लोग पुलिस प्रशासन शर्म करो, कातिल की गिरफ्तारी हो आदि नारे भी लगाए।
इस मौके पर दर्जनों की संख्या में महिला व पुरुष धरना में शामिल हुए।

17 मार्च को हुआ था शव बरामद-
पकरीबरावां थाना क्षेत्र के ज्यूरी गांव के मो. वाहिद के 5 वर्षीय पुत्र अबू तालिब का 28 जनवरी को अपहरण कर लिया गया था। काफी खोजबीन के बाद कुछ पता नहीं चलने पर बच्चे की मां रुखसार प्रवीण ने पकरीबरावां थाना में एफआईआर दर्ज कराई थी। 48 दिनों तक पुलिस बच्चें को बरामद नहीं कर सकी। अंततः 17 मार्च को मासूम की डेड बॉडी गांव में ही एक निर्माणाधीन घर के मकान के अंदर बनीं शौचालय की टंकी से बरामद हुआ था। बच्चे का शव मिलते ही परिजनों में हाहाकार मच गया। वहीं, पुलिस प्रशासन के प्रति परिजन एवं ग्रामीणों ने आक्रोश जाहिर किया था। परिजनों ने पुलिस पर लापरवाही का भी आरोप लगाया था।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: