किसान समागम में प्रधानमंत्री फसल बीमा पॉलिसी वितरण अभियान ‘मेरी पॉलिसी मेरे हाथ’ का शुभारंभ…

म.प्र. शासन ने 22 माह में किसानों के खातों में दिए 1,72,894 करोड़ रू.-सीएम चौहान

केंद्र व म.प्र. सरकार दिला रही किसानों को हक, न कोई दलाल- न बिचौलिया- कृषि मंत्री तोमर

इंदौर/नई दिल्ली, 26 फरवरी 2022, मध्य प्रदेश के इंदौर जिले में आज भव्य किसान समागम में, भारत सरकार की महत्वाकांक्षी प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) के अंतर्गत, फसल बीमा पॉलिसी वितरण अभियान ‘मेरी पॉलिसी, मेरे हाथ’ का शुभारंभ मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान व केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आपदा से फसलों की नुकसानी का किसानों को पूरा मुआवजा दिया जाएगा, वहीं उन्होंने कहा कि म.प्र. शासन ने 22 महीने में किसानों के बैंक खातों में 1,72,894 करोड़ रूपए दिए है, जो अपने आप में एक चमत्कार है। कार्यक्रम में केंद्रीय कृषि मंत्री श्री तोमर ने म.प्र. में किसानों के कल्याण के लिए किए गए बहुतेरे प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि पीएम फसल बीमा योजना का म.प्र. में गंभीरता एवं संवेदनशीलता के साथ निराकरण किया जा रहा है। श्री तोमर ने कहा कि केंद्र व म.प्र. सरकार मिलकर किसानों को उनका हक दिला रही है और अब न कोई दलाल है, न कोई बिचौलिया
इंदौर जिले की सांवेर तहसील के बूढ़ी बरलई ग्राम पंचायत क्षेत्र में आयोजित विशाल व गरिमामय कार्यक्रम में, हजारों किसानों की उपस्थिति में इस अभियान का आगाज हुआ। यहां म.प्र. के कृषि मंत्री श्री कमल पटेल, जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट, पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री सुश्री उषा ठाकुर, उद्यानिकी राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री भारत सिंह कुशवाह, इंदौर सांसद श्री शंकर लालवानी, देवास सांसद श्री महेंद्र सिंह सोलंकी, क्षेत्रीय विधायक व अन्य जनप्रतिनिधि विशेष रूप से उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने समारोह में कहा कि आज का दिन प्रदेश के लिए सौभाग्य का दिन है, जब म.प्र. से ही प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत मेरी पॉलिसी मेरे हाथ अभियान का राष्ट्रव्यापी शुभारंभ हुआ है। म.प्र. से ही प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने किसानों के हित में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का क्रियान्वयन प्रारंभ किया था। श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में इस अभियान के तहत गांव-गांव शिविर लगाए जाएंगे और किसानों को उनके घर पर ही बीमा पॉलिसी उनके हाथ में पहुंचाई जाएगी। श्री चौहान ने कहा कि म.प्र. में इस योजना का प्रभावी क्रियान्वयन सुनिश्चित किया जा रहा है। आरबीसी के तहत भी किसानों को फसल नुकसानी का मुआवजा दिया जा रहा है। आरबीसी के नियमों में किसानों के हित में जरूरी संशोधन किए गए हैं। नियमों को सरल बनाया गया है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अन्तर्गत हाल ही में 7 हजार 618 करोड़ रुपए का मुआवजा किसानों के खाते में जमा कराया गया है। अकेले इंदौर जिले में ही 380 करोड़ 54 लाख रुपए की राशि का भुगतान किया गया है। आपदा के समय आरबीसी 6(4) के तहत साढ़े 10 हजार करोड़ का मुआवजा दिया गया है।
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी किसानों की लगातार चिंता कर रहे हैं। किसानों के कल्याण के लिए नवाचार कर अनेक योजनाएं प्रारंभ की गई हैं। म.प्र. में सिंचाई का रकबा लगातार बढ़ाया जा रहा है। अभी 43 लाख हेक्टेयर रकबे में सिंचाई हो रही है, आगे यह 65 लाख हेक्टेयर किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों ने अथक परिश्रम कर प्रदेश में रिकॉर्ड कृषि उत्पादन किया है। फलस्वरुप म.प्र. कृषि के क्षेत्र में देश में नंबर वन है। श्री चौहान ने कहा कि इंदौर के बरलई में अपेरल रेडिमेड गारमेंट पार्क बनाया जाएगा, जिसमें लगभग एक हजार करोड़ रूपये का निवेश होगा। इससे लगभग 12 हजार लोगों को प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिलेगा। उन्होंने उपस्थित किसानों को अपने-अपने गांव में स्वच्छता रखने, गौरव दिवस मनाने तथा जन्मदिन पर पेड़ लगाने का संकल्प दिलवाया।
केंद्रीय कृषि मंत्री श्री तोमर ने कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए कहा कि आज हर किसी की जुबान पर प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से लाभ मिलने की बात है। किसानों को संकट के समय उनकी भरपूर सहायता की गई है। किसानों के जीवन स्तर में सकारात्मक बदलाव लाया जाएं, यह प्रधानमंत्री श्री मोदी की सोच और उनका संकल्प है, जिसे साकार करने के लिए पुरजोर प्रयास किए जा रहे हैं। प्रधानमंत्री जी सदैव गांव-गरीब-किसानों की चिंता करते है और उन्हीं के प्रयासों से अब किसानों को मिलने वाली धनराशि में अमानत में खयानत नहीं हो रही है। देश के साढ़े 11 करोड़ किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के अंतर्गत 1.82 लाख करोड़ रूपये सीधे उनके बैंक खातों में जमा किया जाना बहुत बड़ी बात है। इसी तरह, एमएसपी की राशि भी सीधे किसानों के बैंक खातों में भेजी जाती है।
श्री तोमर ने कहा कि देश-प्रदेश में जैविक कृषि उत्पादन व निर्यात लगातार बढ़ रहा है। जैविक उत्पादों के दाम भी किसानों को अच्छे मिल रहे हैं। म.प्र. में जैविक खेती का रकबा बढ़ने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए श्री तोमर ने कहा कि राज्य में जैविक खेती को प्रोत्साहित करने के लिए कारगर प्रयास किए जा रहे हैं, फलस्वरूप जैविक खेती के क्षेत्र में म.प्र. देश में अव्वल है। उन्होंने कहा कि खेती को लाभ का व्यवसाय बनाने के लिए जरूरी है कि खेती की लागत कम की जाए, किसानों को उनके उत्पादन का वाजिब दाम मिले और खेती-किसानी के लिए आधुनिक उपकरण और टेक्नालाजी का उपयोग किया जाए। इस दिशा में म.प्र. में दृढ़ संकल्प के साथ कार्य किए जा रहे हैं।
कार्यक्रम स्थल पर मुख्यमंत्री व केंद्रीय कृषि मंत्री ने कृषि मेला व ड्रोन प्रदर्शनी का शुभारंभ भी किया तथा कुछ किसानों को पालिसी सौंपी और कृषक उत्पादक संघ (एफपीओ) से जुड़े किसानों को प्रमाण-पत्र प्रदान किए। प्रारंभ में पीएमएफबीवाय के सीईओ व केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के संयुक्त सचिव ने संबोधित किया। कार्यक्रम में इंदौर व देवास जिले के हजारों किसान उपस्थित थे। क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि श्री कृष्णमुरारी मोघे, श्री महेंद्र हार्डिया, श्री रमेश मेंदोला, श्रीमती मालिनी गौड़, श्री आकाश विजयवर्गीय, श्री सुदर्शन गुप्ता, सुश्री कविता पाटीदार, श्री नरेंद्र राजपूत, श्री मनोज पटेल, श्री सावन सोनकर, श्री राजेश सोनकर, श्री गौरव रणदिवे, श्री दर्शन सिंह, श्री देवराजसिंह परिहार, श्री कंचन सिंह चौहान, श्री मधु वर्मा, श्री घनश्याम पाटीदार, श्री मुकेश पंवार सहित अनेक नेता-कार्यकर्ता मौजूद थे।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: