fbpx

दिल की धड़कन से चलेगा बिना बैटरी वाला पेसमेकर

दिल की धड़कन से चलेगा बिना बैटरी वाला पेसमेकर
वैज्ञानिकों ने एक नया पेलमेकर विकसित किया है यह दिल की धड़कन से मिलने वाली ऊर्जा से चल सकता है इस पेलमेकर का सुअर मे सफल परीक्षाण हो चुका है शोधकर्ताओं के अनुसार स्वचालित कार्डिक पेसमेकर बनाने की दिशा मे यह अहर कदम है प्रत्यारोपित होने वाले पेसमेकर से आधुनिक चिकित्स क्षेत्र मे बड़ा बदलाव आया और दिल की धड़कनों को नियंत्रित करने के सथा अनगिनत लोगों की जान बची इस परंपरागत पेसमेकर मे हालांकि एक बड़ी खामी यह है कि इसकी बैटरी पांच से 12 साल तक ही चलती है इसे सर्जरी के जरिये बदलने की जरुरत पड़ती है इस तरह की सर्जरी की वजह से संक्रमण और रक्तस्राव समेत कई तरह की समस्याएं खड़ी हो सकती है

Please follow and like us:
%d bloggers like this: