नोएडा सेक्टर 47 वेंडर वेंडिंग जोन में जाने के लिए तैयार, बस शर्त यह है कि ——

नोएडा समाज जागरण

नोएडा में वेंडर और वेंडिंग जोन बिल्डर के बाद सबसे बड़ा मुद्दा है, जो जितना सुलझता है उतना ही उलझता चला जाता है। सेक्टर 47 गेट नं.5 पर वेंडर को स्थायी करने की कोशिश की जा रही है। जिसके लिए क्षेत्र के अभियंता नें आदेश भी कर दिया है। इससे पहले इन वेंडरोंं को मोरना जाने के
लिए कहा गया लेकिन वेंडर नें मना कर दिया तो इनके लिए सेक्टर 47 मे ही 5 नंबर गेटर पर वेंडिंग जोन बनाने की बात शुरु हुई।

सभी वेंडर वहाँ जाने के लिए तैयार है बस शर्त इतना है कि उनको जहाँ से हटाया जा रहा है वहाँ पर किसी और को जगह न दिया जाय, या कोई नया वेंडर यहाँ पर खड़ा न की जाय। अन्यतथा हम लोगों के दुकान जो कि एक नयी जगह है वहाँ कौन जायेगा ? अगर नही जायेगा तो हम लोग प्राधिकरण तो पैसा कहाँ से देंगें और अपने परिवार का भरण पोषण कहा से करेंगे।

नान रोटी के दुकान लगाने वाले तहसीन का कहना है कि हम लोग तो तैयार बैठे है लेकिन प्राधिकरण के तरफ से हमसे आश्वासन मिले की जहाँ से हमे हटाया जा रहा है वहाँ कोई नया वेंडर नही आयेगा।
नारियल के दुकान लगाने वाले गुड्डन नें जो बताया वह भी बहुत महत्वपूर्ण है, उनका कहना है कि हमारे पास तो एक ही दुकान है लेकिन लोगों के पास तो तीन-तीन दुकान है। यानि सड़क पर भी किराये की दुकान लगायी जा रही है। गुड्डन नें कहा कि हमे जब प्राधिकरण कहेगा हम वेंडिंग जोन मे शिफ्ट हो जायेंगे, लेकिन प्राधिकरण नें अगर यहाँ पर कोई वेंडर खड़ा किया तो वापस यही पर लगायेंगे। प्राधिकरण पहले यह सुनिश्चित करें।

अरविन्द पान खोखा वाले का कहना है कि हम तो चले जायेंगे यहाँ से नये जगह पर लेकिन इस जगह पर कोई नया वेंडर आ जायेगा तो हम लोगों के दुकानदारी कैसे चलेगा।
वेंडर सुधीर नें बताया कि हम यहाँ पर पूराने है और हमारा दुकान यहाँ पर ठीक चलता है, फिर भी मै वेंडिंग जोन में जाने को तैयार हूँ। लेकिन किसी ने अगर यहाँ पर आकर दुकान लगा लिया तो कोई भी ग्राहक हमारे पास में नही जायेगा। इसलिए मै प्राधिकरण का स्वागत करता हूँ और आश्वासन चाहता हूँ कि हमारा ध्यान रखा जाये।
यह नोएडा सेक्टर 47 के 4 वेंडरों के स्थिति है जो आपके सामने है। नोएडा में विकास और अतिक्रमण साथ-साथ चलते है। ये बताना बड़ा मुश्किल होगा कि कौन आगे है और कौन पीछे। अक्सर देखा जाता है कि लाईसेंसी वेंडर अपने जगह पर ग्राहक के इंतजार में खड़ा होता है और अतिक्रमण करने वाले लोग मोहल्ले और बाजार के गेट पर। भला ऐसे स्थिति में ग्राहक वेंडिंग जोन तक क्यों जायें।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: