नोएडा साइबर हेल्प डेस्क नें कराया 75 हजार की वापसी

समाज जागरण नोएडा

नोएडा साइबर हेल्प डेस्क ने ऐसे ही एक मामले को सुलझाने मे कामयाबी हासिल करते हुए आनलाइन ठगी के शिकार पीड़ित को उसका 75 हजार वापस कराया है। साथ ही सर्व साधारण को आगाह किया है कि किसी भी अनजान व्यक्ति से अपना खाता संख्या, पिन, ओटीपी और सीवीसी नंबर इत्यादी साझा न करें। अगर आपके खाते से इस प्रकार की कोई भी धोखाधड़ी होता है तो आप 1930 पर काॅल कर साइबर हेल्प डेस्क को जानकारी साझा करे।

सूचना प्रौधोगिकी नें एक तरफ जहाँ इंसान के लिए सुविधाओं को सुगमता प्रदान किया है वही दूसरी तरफ साइबर अपराधियों ने भी इसमें सेंध लगाकर बड़े आराम से आपके जेब साफ करने में कामयाबी हासिल की है। पहले चोरी करने वालों को चोर का तमगा देते थे वही आजकल घर बैठे सूचना प्रौधौगिकी के माध्यम से मिनटों में बैंक और एकाउण्ट में सेंधमारी करने वालों को साइबर क्राइम का नाम दिया गया है। सरकार के लाख कोशिश के बावजूद साइबर अपराधियों ने महारत हासिल की है। कही न कही इंसान के लालच भी बैठे बिठाये साइबर चोरों को मौका देता है।

अक्सर देखा गया है कि साइबर अपराधी शातिर किस्म के होते है जो कि मैसेज और फोन के माध्यम से लालच देते है और पासवर्ड व ओटीपी मांग लेते है। जिसके बाद अकाउण्ट से पैसे ले उड़ते है। ऐसे जालसाजों और फर्जी मैसेज से दूर रहे। किसी भी प्रकार के आफर के चक्कर मे फंसकर अपना खून पसीने की कमाई गवाने से बचे।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: