नोएडा : वेंडिंग जोन घोटाले का आरोप, रिमाइंडर के बाद भी कोई जबाब नही

समाज जागरण

नोएडा वेंडिंग जोन और वेंडर की समस्या नोएडा प्राधिकरण और यूपी सरकार दोनों के लिए गले की फांस बनी हुई है। जहाँ एक तरफ प्राधिकरण और सरकार ईमानदारी के साथ काम करना चाहती है वही दूसरी तरफ प्राधिकरण में बैठे अफसर और बाबू वेंडिंग माफिया और दलालों के साथ मिलकर योजनाओं का पलीता लगा रहे है। यही कारण है कि 4 साल गुजर जाने के बाद भी नोएडा प्राधिकरण वेंडर को व्यवस्थित नही कर पायी है।

बता दे कि 17 जुलाई 2021 को प्राधिकरण ने नोएडा वर्क सर्किल 1,2,3 व 9 के लिए ड्रा किया। लेकिन ड्रा होते ही घोटाले की आरोप लगा दिए गए। नोएडा रेहड़ी पटरी संचालक वेलफेयर एसोसिएशन ने बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि वर्क सर्किल 1,2,3 व 9 के ड्रॉ में गड़बड़ हुई है। जिसका कुछ साक्ष्य भी दिया गया।
जिसमें सीरियल नंबर 13 कंट्रोल संख्या 6160 लाल महोमद पुत्र साहवाजीद जो की सेक्टर 63 में दुकाकान लगाते है के नाम से जमा है उसको ड्रॉ में इम्तियाज अहमद पुत्र अब्दुलवहीद सेक्टर 27 के नाम से दिखाया गया , सीरियल नंबर 14 कंट्रोल संख्या 3276 महोमद सवीर पुत्र इम्तियाज महरूद जो की सेक्टर 58 में दुकाकान लगाते है के नाम से जमा है उसको ड्रॉ में ललित पासवान पुत्र महेश्वर पासवान के नाम से दिखाया गया , सीरियल नंबर 41 कंट्रोल संख्या 6076 राजू पुत्र अधीन चोपड़ा जो की सेक्टर 57 में दुकाकान लगाते है के नाम से जमा है उसको ड्रॉ में अंकि कुमार पुत्र प्रभु नारायण सिंह सेक्टर 27 के नाम से दिखाया गया, सीरियल नंबर 51 कंट्रोल संख्या 5267 (ऐसी कोई कंट्रोल संख्या ही नहीं है फार्म ही नहीं जमा है) उसको ड्रॉ में अमित कुमार पुत्र नवीन सिंह सेक्टर 27 के नाम से दिखाया गया, सीरियल नंबर 167 कंट्रो ल संख्या सं में है।

ऐसे एक लंबी लिस्ट है जिसमे नाम बदलकर ड्रा किया गया है। अब जबकि गड़बड़ी की जांच कराने की मांग की जा रही है तो प्राधिकरण 2-2 रिमाइंडर के बाद भी कोई जबाब नही दे रही है। हालाँकि जिस वेंडिंग जोन में उनको जगह दिए गए है नोएडा बोटेनिकल के पास वहाँ पर कोई जाने के लिए तैयार ही नही है। दूसरी बात नोएडा सेक्टर 18 स्म्रार्ट सिटी के स्म्रार्ट सेक्टर के सामने सेक्टर 27 में हुए रेहड़ी पटरी अतिक्रमण को भी हटाने में प्राधिकरण नाकाम रही है। अगर आप शाम को जाईये तो बीच सड़क पर पुलिस चौकी के पास ही आपको ठेली लगे मिल जायेंगे। तैनात पुलिस वाले ई-रिक्शा वालों को भले ही वहाँ से गाली देकर भगाते आपको दिखेंगे लेकिन वहाँ पर खड़े खोमचे जिससे जाम लगते है उनसे बड़े प्यार से पेश आते है।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: