नोएडा: 250 करोड़ की 18 होल गोल्फकोर्स 10 लाख सदस्यता शुल्क, सरकारी कर्मचारियों के लिए विशेष छूट

नोएडा समाज जागरण

नोएडा सेक्टर 151 ए में बनने वाली गोल्फ कोर्स के लिए सदस्यता अभियान या सदस्य बनने की प्रक्रिया शुरु हो चुकी है। 250 करोड़ के लागत से बनने वाली इस गोल्फ कोर्स में 2 श्रेणी में बांटे गए है। 18 होल की यह गोल्फ कोर्स सन 2022 से क्रियाशील होने की संभावना है। इसमें सदस्यता के लिए दो श्रेणी बनाये गये है सरकारी और गैर-सरकारी। सरकारी अफसर सिर्फ 4 लाख देकर सदस्यता प्राप्त कर सकते है वही गैर-सरकारी लोगों के लिए 10 लाख देकर सदस्यता शुल्क लिया जा सकता है। हालांकि अभी यह नही पता चला है कि 4 लाख वालों को क्या फैसलिटी मिल पायेंगे और 10 लाख वालों को क्या फैसलिटी। संभवत: इस बात की जानकारी फार्म भरने के समय दे दिया जायेगा। संभावना यह भी है कि 4 लाख वाले और 10 लाख वाले दोनों को एक सामान्य सुविधा ही प्राप्त हो। शुरु में यह राशी 50 प्रतिशत देना होगा, 50 प्रतिशत गोल्प कोर्स क्रियाशील होने के 3 महिने के भीतर देना होगा। पहले फेज में 1000 लोगों को दिया जायेगा सदस्यता।

जो भी सज्जन इस गोल्फ कोर्स में सदस्य बनना चाहते है इस साईट पर जाकर अप्लाई करे : https://golfcourse.mynoida.in पर जाकर 50% राशी डिपाजिट करना होगा, जो भी मेम्बरशिप चार्ज है। बांकि के बची हुई राशी आपको जब ये शुरु होगा उसके 3 महिने के भीतर जमा करना होगा। अगर आप उत्तर प्रदेश के सरकारी कर्मचारी है या आफिसर हो, तो आपके लिए 4 लाख, अगर आप उत्तर प्रदेश से बाहर के सरकारी कर्मचारी है तो आपके लिए 6 लाख फिस रखे गए है।
अगर आप कार्पोरेट मेम्बरशिप लेना चाहते है या फिर भारत से बाहर के रहने वाले है तो ऐसे सदस्यों को 15 लाख की सदस्यता शुल्क चुकाना होगा।
यहाँ पर सरकारी लोगों के लिए विशेष ध्यान रखा गया है और उनको 60% की डिस्काउण्ट आफर किया गया है। मतलब प्राईवेट वाले 10 लाख और सरकारी वाले 4 लाख। उस नोएडा में जहाँ पहले से ही 5 स्पोर्टस सिटी बनाने बांकि है। बिल्डरों नें रेजिडेंट बनाकर बेच लिया है औऱ स्पोर्टस सिटी को विकसित नही किया है। उसके बावजूद भी यह अतिरिक्त सुविधा दिया जा रहा है जिसका स्वागत किया जाना चाहिए। 151ए में बनने वाली 18 होल गोल्फ कोर्स में शुरु में 1000 लोगों को सदस्यता दी जायेगी। जिससे नोएडा प्राधिकरण को लगभग 75 करोड़ की शुल्क प्राप्त होंगे। जिससे नोएडा प्राधिकरण विकास कार्य करेगी। यानि की 250 करोड़ खर्च करने पर जो 75 करोड़ प्राप्त किया जायेगा उससे विकास कार्य होगा।

एस्कोर्ट कंसलटेंट अर्नेस्ट एंड यंग के माध्यम से बायवलिटी का अध्यन कराय गया है। अध्ययन के अनुसार बनने वाली गोल्फ कोर्स के लिए 90 एकड़ भूमि की आवश्यकता होगी। इस भूमि की लागत करीब 185 करोड़ है। जबकि इसके विकास कार्य पर 70 करोड़ खर्च किए जायेंगे। यानि की जो 75 करोड़ रुपये सदस्यता शुल्क प्राप्त किया जायेगा उसी से विकास कार्य किये जायेंगे इस गोल्फ कोर्स के लिए। हालांकि प्राधिकरण नें 2020 में ही 90 करोड़ की बजट की अनुमोदन कर दिया।

नोएडा शहर के वरिष्ठ नागरिक व अधिवक्ता श्री अनिल के गर्ग कहते है :

नोएडा एक ऐसी शहर बनती जा रही है जहाँ एक तरफ लाखों घर खरीदारों घर के लिए परेशान है। नोएडा में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है। ग्रामीण क्षेत्र मे विकास कार्य बिल्कुल शुन्य के स्तर पर है। नोएडा शहर के 5 स्पोर्टस सिटी पहले से ही विलंब है। नोएडा में झुग्गी झोपड़ी जो कि शहर के बीच में है उसका पुनर्वास या उसके लिए मध्यम व निम्न श्रेणी के मकान की जरूरत है। वेंडिंग जोन का विकास कार्य होना है। दूसरी तरफ 250 करोड़ के लागत से 18-होल गोल्फ कोर्स का निर्माण कार्य किया जा रहा है। 2012 के रिवाईज्ड मास्टर प्लान में गरीबों के लिए 25 प्रतिशत मध्यम और निम्न श्रेणी की मकान बनाने के लिए उच्च न्यायालय ने जो डायरेक्शन दिया था उसका आज तक नही पता कि वह मकान कहाँ बनाये जा रहे है और किसकों दिए गए है। जिस शहर में लोग झुग्गी में रहने को मजबूर है उसी शहर में 250 करोड़ से बनने वाली गोल्फ कोर्स के लिए 10 लाख की मेंबरशिप के लिए फार्म अप्लाई किया जाना अपने आप मे सरकार से और सरकारी सिस्टम से सवाल पूछता है आखिर क्यो ?

Please follow and like us:
%d bloggers like this: