मध्य प्रदेश: सांसद तन्खा ने की ऑस्ट्रेलियाई उच्चायुक्त से मुलाक़ात

मध्य प्रदेश: ऑस्ट्रेलिया के भारत में हाई कमीशन के उच्चायुक्त बेरी ओ फैरल ने मध्य प्रदेश से राज्य सभा सांसद एवं वरिष्ठ अधिवक्ता विवेक तन्खा से उनके निवास पर सौजन्य भेंट की| सांसद तन्खा ने ऑस्ट्रेलियाई हाई कमिश्नर को दशहरे के शुभ मौके पर बधाई एवं शुभकामनाएं दीं| गौरतलब है कि ऑस्ट्रेलिया की अर्थव्यवस्था दुनिया में सबसे स्थिर अर्थव्यवस्था मानी जानी है

मुलाकात के दौरान सांसद तन्खा ने एक अनुरोध पत्र भी उच्चायुक्त को सौंपा जिसमे उन्होंने बताया कि हमारे राष्ट्रीय पर्व दीपावली का भारत में विशेष महत्त्व है| आगामी 4 नवम्बर को दिवाली के मौके पर यदि ऑस्ट्रेलिया सरकार वहां रह रहे भारतियों के लिए सार्वजनिक अवकाश की घोषणा कर सकें तो यह एक बड़ा कदम होगा और ऑस्ट्रेलिया में रह रहे भारतीयों को उन्हें भारत में रहने का अनुभव प्राप्त होगा| इसके साथ ही सांसद तन्खा ने उच्चायुक्त को अवगत कराया कि अभी मुंबई से ऑस्ट्रेलिया के मेलबोर्न के मध्य एक ही फ्लाइट है| दिल्ली एवं देश के दूसरे शहरों में रहने वाले हजारों नागरिकों एवं विद्यार्थियों के व्यापक हित में यदि दिल्ली एवं मेलबोर्न अथवा सिडनी के मध्य सीधी फ्लाइट प्रारम्भ हो सके तो इससे दोनों देशों में रहने वाले नागरिकों को सुविधा मिलेगी|

सांसद तन्खा ने यह भी अनुरोध किया कि ऑस्ट्रेलिया की प्रसिद्ध यूनिवर्सिटीज़ में अध्ययन के ढेरों विकल्प उपलब्ध हैं| विश्व में बढ़ रही प्रतिस्पर्था के मध्य हमारे स्टूडेंट्स अपनी हायर स्टडीज के लिए ऑस्ट्रेलिया में एडमिशन लेना चाहते हैं क्योंकि ऑस्ट्रेलिया में आकर्षक कैरियर विकल्प मौजूद हैं परन्तु इसमें लगने वाली फीस बहुत अधिक होने के कारण विगत कुछ वर्षों में विदेशों से आने वाले छात्रों की संख्या में भारी कमी हुई है| यदि ऑस्ट्रेलिया सरकार विदेशों से आने वाले छात्रों की फीस कम करने पर विचार कर सके तो छात्र आसानी से ऑस्ट्रेलिया आ सकेंगे| उच्चायुक्त ने सांसद तन्खा की मांगो को ऑस्ट्रेलियाई शासन के समक्ष रखने का आश्वासन दिया| मुलाकात के दौरान सांसद तन्खा ने मध्य प्रदेश में व्यापार की अपार संभावनाओं के बारे में उच्चायुक्त को अवगत कराया और उन्हें मध्य प्रदेश आने का न्योता भी दिया|

क्वाड में जापान, ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका के साथ भारत भी शामिल है

क्वाड का अर्थ ‘क्वाड्रीलेटरल सिक्योरिटी डायलॉग’ है| चार देश भारत, जापान, ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका इसके सदस्य हैं| इस क्वाड का मकसद एशिया- प्रशांत क्षेत्र में शांति और शक्ति की बहाली करना और संतुलन बनाए रखना है| वर्ष 2007 में जापान के तत्कालीन प्रधानमंत्री शिंजो अबे द्वारा क्वाड का प्रस्ताव पेश किया गया था. इस प्रस्ताव को समर्थन भारत, अमेरिका और आस्ट्रेलिया ने किया था| आज भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया के चतुष्पक्षीय गठबंधन या क्वाड गठबंधन के सदस्य हैं| उम्मीद है की वैश्विक हित में यह गठबंधन भविष्य में और मजबूत होगा|

Please follow and like us:
%d bloggers like this: