fbpx

प्रभु की प्राप्ति

प्रभु की प्राप्ति
एक भक्त भगवान के दर्शन के लिए बहुत लालायित था वह अपने गुरु के पास पहुंचा और उनसे अपनी बात कही गुरु ने कहा कि वह सदना से मिले | उसी से मिलकर उसका कार्य सिध्द होगा वह भक्त सदना कसाई था और मांस बेचकर अपना गुजारा करता था वह भक्त को देखते ही बोला गुरुजी ने भेजा है न दुकान उठा लूं तब साथ चलूंगा भक्त आश्चर्य मे पड़ गया कि सदना को मेरे आने के उहेश्य का पता कैसे चला सदना भक्त के साथ अपने घर कि ओर चल पड़ा उसके घर के दरवाजे पर एक खाट पड़ी थी जिस पर सदनाका बूढा पिता बैठा हुआ खांस रहा था सदना ने उसे दवा पिलाई फिर घर मे दाखिल हुआ उसके कई बच्चे थे सदना ने उन्हें बारी से गोद मे उठाकर प्यार किया फिर पत्नी से घर का हालचाल पूछा तत्पश्चात रात्रि भोजन के लिए निर्देश देखर वह भक्त की ओर मुड़ा|

Please follow and like us:
%d bloggers like this: