वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद एवं विश्वनाथ मंदिर के सर्वे मामले में सोशल मिडिया पर सांप्रदायिकता भड़काऊ पोस्ट न करने हेतु मुस्लिम समुदाय के लोगों ने किया अपील

औरंगाबाद: से (अजय कुमार पाण्डेय ) औरंगाबाद शहर में रविवार को पैगाम – ए – इंसानियत अध्यक्ष, मोहम्मद शाहनवाज रहमान उर्फ सल्लू खान के नेतृत्व में सद्भावना मार्च निकाला गया! सद्भावना मार्च के जरिए मुस्लिम समुदाय के लोगों ने सभी लोगों से अपील करते हुए कहा है कि वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद एवं विश्वनाथ मंदिर सर्वे मामले में सोशल – मीडिया पर संप्रदायिकता भड़काऊ पोस्ट न करें! यदि ऐसा किया जाता है, तो सोशल – मीडिया पर नफरत व अफवाह फैलाने वाले लोगों के विरुद्ध नियमानुकूल तरीके से कार्यवाही करते हुए पुलिस – प्रशासन प्राथमिकी दर्ज कर के जेल भेजे, क्योंकि सोशल – मीडिया पर असामाजिक तत्त्वों द्वारा सामाजिक सौहार्द को बिगाड़ते हुए नफरत फैलाया जाता हैं! देश में ज्ञानवापी मस्जिद, कुतुब मीनार, ताजमहल को लेकर असामाजिक तत्व के लोग फेसबुक पर संप्रदायिकता फैलाने के लिए, शहर का माहौल बिगाड़ने के लिए तरह – तरह के टिप्पणियां लिखने से बाज नहीं आ रहे हैं! दोनों समुदाय से असामाजिक तत्व के लोग फेसबुक के माध्यम से आपत्तिजनक टिप्पणी कर रहे हैं! ऐसी टिप्पणी करने से दूसरे धर्म के लोगों को अपमान तथा ठेस पहुंच सकता है! जो सरासर गलत है! इसलिए ऐसे असामाजिक तत्व के लोगों पर प्रशासन नियमानुकूल कार्य करें! मुस्लिम समुदाय के लोगों ने अपील करते हुए कहा है कि किसी के बहकावे में आने की जरूरत नहीं है! जो लोग दोनों धर्म के खिलाफ ठेस पहुंचाने का काम करेंगे! उसे समाज भी नहीं छोड़ेगा! औरंगाबाद में लोग एक दूसरे को हमेशा मदद किया करते हैं! यहां के सभी लोग हमेशा मिलजुल कर रहते हैं! लेकिन कुछ असामाजिक तत्व के लोग सौहार्द को बिगाड़ना चाहते हैं! इसलिए सद्भावना मार्च में दोनों समुदाय के लोगों में शामिल वार्ड – पार्षद सिकंदर हयात, शिव मंदिर पुजारी डब्लू पाण्डेय अजय पाण्डेय, मोहम्मद शहाबुद्दीन उर्फ नन्हे, मोहम्मद जुल्फीकार,अभिषेक कुमार के नेतृत्व में शहर वासियों को गुलाब दिया गया! इस कार्यक्रम का नेतृत्व मोहम्मद शाहनवाज रहमान उर्फ सल्लू खान ने किया! नेतृत्वकर्ता सल्लू खान ने कहा कि अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों ने सद्भावना मार्च निकालकर मानवता एवं भाईचारा का संदेश दिया है! यह औरंगाबाद शहर हमेशा से शांति का प्रतीक रहा है! वार्ड – पार्षद सिकंदर हयात ने कहा कि सांप्रदायिक सद्भावना हमारे देश की पहचान है! मौजूदा समय में भी इसे इसी प्रकार बनाए रखने की जरूरत है! जब भी संप्रदायिक हिंसा भड़कती है, तो इससे न केवल अनेक परिवारों की क्षति होती है, बल्कि पूरे समाज और देश की क्षति होती है! इंसानियत की मूल भावना भी इससे बहुत होती है! इसके बावजूद भी रह – रहकर सांप्रदायिक हिंसा क्यों होती है? इस संदेश देने वाले टीम में नेतृत्वकर्ता के साथ रंजन कुमार, मोहम्मद राशिद, मोहम्मद रईस अंसारी, मोहम्मद रमजान, प्रकाश कुमार, मोहम्मद नूर आलम, मोहम्मद बिलाल, पंकज कुमार, मुकेश कुमार, अजय कुमार, वीरेंद्र कुमार के अलावा अन्य लोग भी उपस्थित थे!

Please follow and like us:
%d bloggers like this: