TSUNSS गोपगुट बिहार की यचिका 16633/2021 के आदेश के आलोक में अब बेसिक ग्रेड टीइटी शिक्षक भी प्रधान शिक्षक की परीक्षा में होंगे शामिल, आयोग ने जारी किया सूचना

बगहा ।नीरज मिश्रा

न्यायालय के आदेश व नियमावली के अनुसार स्नातक ग्रेड शिक्षकों को प्रधानाध्यापक पद पर मिले प्रोन्नति : सुनिल राउत
प्रधान शिक्षक बहाली में अनुभव सीमा शिथिल कर टीईटी शिक्षकों को भी शामिल करने को गोपगुट संघ लगातार कर रहा था प्रयास

बगहा/बेतिया/पश्चिम चम्पारण मंगलवार 12 अप्रैल
बिहार लोक सेवा आयोग द्वारा राज्य के प्राथमिक विद्यालयों में प्रधान शिक्षक की हो रही बहाली में अब बेसिक ग्रेड के टीईटी शिक्षक भी आवेदन कर सकेंगे और सम्मिलित हो सकेंगे। पूर्व में जारी विज्ञप्ति के अनुसार अनुभव सीमा की बाध्यता के कारण राज्य भर के बेसिक ग्रेड टीईटी शिक्षक आवेदन से वंचित हो रहे थे। जिस पर टीईटी एसटीईटी उत्तीर्ण नियोजित शिक्षक संघ गोपगुट बिहार द्वारा सरकार व विभाग को आवेदन देने के साथ ही पटना उच्च न्यायालय में याचिका 16633/2021 दायर किया गया था जिस पर 5 जनवरी को सुनवाई करते हुए पटना उच्च न्यायालय ने टीईटी शिक्षकों को भी परीक्षा में शामिल होने का आदेश दिया था। उसके बावजूद भी आयोग की विज्ञप्ति में टीईटी शिक्षकों को राहत नही मिली थी। किन्तु आयोग द्वारा जारी नए विस्तृत सूचना में अब इन शिक्षकों को राहत देते हुए न्यायालय के उक्त आदेश को तत्काल प्रभाव से प्रभावी माना गया है। आयोग के इस सूचना से टीईटी शिक्षक भी अब प्रधान शिक्षक की बहाली में सम्मिलित हो सकेंगे। इस पर संघ की पश्चिम चम्पारण जिला इकाई ने सभी शिक्षकों की ओर से संघ और शीर्ष नेतृत्व को धन्यवाद ज्ञापित किया है। संघ के हवाले से उक्त जानकारी संघ के जिला सोशल मीडिया प्रभारी सुनिल कुमार राउत ने दिया। उन्होंने आगे कहा कि बिहार लोक सेवा आयोग द्वारा जारी पूर्व दिशानिर्देश से लगभग सभी बेसिक ग्रेड टीईटी शिक्षक वंचित हो रहे थे किन्तु अब जारी सूचना में न्यायालय के आदेश को तत्काल प्रभाव से प्रभावी होने की बात कही गई है जिससे सभी शिक्षक परीक्षा में शामिल हो सकेंगे। मालूम हो कि राज्य में टीईटी शिक्षकों की बहाली वर्ष 2013-14 और उसके बाद में हुई जिसमें अधिकांश शिक्षक अप्रशिक्षित थे। इनका प्रशिक्षण 2019 में या बाद में पूर्ण हुआ ऐसी स्थिति में आयोग द्वारा पूर्व में जारी अनुभव की बाध्यता से टीईटी शिक्षक प्रधान शिक्षक की बहाली से वंचित हो रहे थे जो अनुचित था। सरकार नियमानुसार स्नातक ग्रेड (6-8) शिक्षकों को प्रधानाध्यापक पद पर प्रोन्नति दे। शिक्षक बहाली की नियमावली में इस बात का उल्लेख है तथा इस संबध में न्यायालय का आदेश भी प्राप्त है। संघ के जिलाध्यक्ष चंचल अविनाश, महासचिव राजेश कुमार राय, जिला संयोजक सोहन लाल ने कहा कि संघ के अथक प्रयास से अब प्रधान शिक्षक की बहाली में सभी टीइटी शिक्षक परीक्षा में सम्मिलित हो सकेंगे। आयोग द्वारा इसकी सूचना सार्वजनिक कर दी गई है।
वहीं राज्य कार्यकारिणी सदस्य मोo औरंगजेब रजा, कोषाध्यक्ष प्रशांत प्रियदर्शी, प्रवक्ता शुभनारायण सोनी, महिला प्रकोष्ठ प्रभारी शुभलक्ष्मी महाराज ने कहा कि टीएसयूएनएसएस गोपगुट द्वारा पटना हाईकोर्ट में चल रहे वाद संख्या 16633/2021 में जारी अंतरिम आदेश के आलोक में बेसिक ग्रेड टीइटी शिक्षक भी अब प्रधान शिक्षक की परीक्षा में शामिल होंगे तथा लिंक में भी अपरिहार्य सुधार कर दिया गया है। बीपीएससी के अद्यतन नोटिफिकेशन में यह स्पष्ट कर दिया गया है। यह बिहार के टीइटी शिक्षकों के संघर्षों की दिशा में जीत का निर्णायक कदम है। संघ के वरीय सदस्य सह नरकटियागंज प्रखंड अध्यक्ष क्षमेंद्र कुमार, शक्ति प्रकाश, अमरेन्द्र कुमार, राकेश राव, जितेंद्र कुमार, रवि रंजन शुक्ल, उमाकांत राव सहित जिले के शिक्षकों एवं जिला इकाई के संघीय पदाधिकारियों ने न्यायालय के प्रति आस्था व्यक्त किया और कहा न्याय की जीत होगी। इन्होंने संघ के प्रदेश अध्यक्ष मार्कण्डेय पाठक सहित शीर्ष नेतृत्व के प्रति आभार व्यक्त करते हुए धन्यवाद ज्ञापित किया।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: