कमीशनखोरी में आवास सहायक व उनके पति की ग्रामीणों ने कर दी फजीहत।

नवादा (आर्यन मोहन)गरीबों के आवास योजना में रिश्वतखोरी के विवाद में महिला आवास सहायक व उनके पति की ग्रामीणों ने जमकर फजीहत की। रास्ते में ही ग्रामीणों ने रोक लिया और खूब खरी खोटी सुनाई। आवास सहायक को लोग आगे बढ़ने नहीं दे रहे थे। अंचल गार्ड के पहुंचने पर आवास सहायक वहां से निकल सकी। वाक्या सिरदला प्रखंड के एक पंचायत का बताया गया है।
पंचायत में आवास योजना में कमीशन मांगे जाने से नाराज ग्रामीणों ने आवास सहायक के पति को पूरी तरह से धो दिया। रास्ते में रोक रखे लोग उनलोगों को आगे बढ़ने ही नहीं दे रहे थे। काफी देर तक ड्रामा चलता रहा। आवास योजना की राशि भुगतान के एवज में 15-20 हजार रुपये की मांग को लेकर विवाद हो रहा था। ग्रामीणों ने बताया कि प्रधानमंत्री आवास की दूसरी क़िश्त देने के पूर्व वसूली परवान पर है। आवास सहायक झगरी बीघा गांव से होते जर्रा बाबा पहाड़ी के पास पहुंची थी कि कुछ लोगों ने घेर लिया कमीशनखोरी का विरोध करने लगे। इस दौरान 3-4 ग्रामीण आवास सहायक के भी समर्थन में खड़े दिखे।
जानकारी मिलने पर बीडीओ ने अंचल कर्मी व गार्ड को भेज कर पति-पत्नी को मुक्त कराया। वैसे, जानकार बताते हैं कि आवास सहायक का 28 अप्रैल को ही दूसरे पंचायत में तबादला कर दिया गया है। फिर भी पंचायत क्षेत्र में रुपये की वसूली की जा रही थी। फिलहाल, यह मामला सुर्खियों में है, लेकिन पुलिस-प्रशासन के अधिकारी ऐसी जानकारी से इंकार कर रहे हैं। आवास सहायक व उनके पति भी चुप्पी साध रखे हैं।
बता दें कि प्रधानमंत्री आवास योजना में इस तरह के मामले अक्सर देखने को मिलते हैं। आवास योजना भ्रष्टाचार चरम पर है। कमीशन के खेल की शिकायतें अक्सर वरीय अधिकारियों के पास पहुंचती रहती है, पर कार्रवाई नहीं हो पाती है।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: