हाजी नौशाद अख्तर सैफी ने रमजान मुबारक महीने मैं रोजा इफ्तार कराया

शमीम अहमद सिद्दीकी दैनिक समाज जागरण बिजनौर

आपको बता दें नजीबाबाद के समाजसेवी हाजी नौशाद अख्तर सैफी एक रहम दिल इंसान हैं वह निस्वार्थ साल के 12 महीने लोगों की मदद करते हैं उनके साथ सुख दुख में कंधे से कंधा मिलाकर खड़े रहते हैं वह यह नहीं सोचते कि मै जिसकी मदद कर रहा हूं कि वह गरीब है या अमीर है चाहे किसी पद पर हो या आम जनता हो हिंदू हो या मुस्लिम हो सभी लोगों को इंसानियत की नजर से देखते हुए जितना उनसे हो सकता है उनकी भरपूर मदद करते हैं वह युवाओं के खेल प्रतियोगिता में भी काफी सहयोग करते हैं इसलिए युवा भी उन्हें बहुत पसंद करते हैं और उनसे बहुत खुश रहते हैं जब देश कोरोनाकाल जैसी घातक बीमारी से जूझ रहा था तब भी उन्होंने खुलकर सभी समुदाय के लोगों की मदद की इसलिए नजीबाबाद शहर में उनकी अच्छी छवि है और जनता उनका मान सम्मान करती है प्यार मोहब्बत और दुआएं देती है हाजी नौशाद अख्तर सैफी ने नजीबाबाद शहर को गंगा जमुना तहजीब की मिसाल देते हुए शहर के सभी समुदाय के लोगों को नजीबाबाद में स्थित कान्हा बैंकट हॉल में बुलाकर रमजान के मुबारक महीने पर रोजा इफ्तारी कराई हाजी नौशाद अख्तर सैफी ने कहा कि उनका रोजा इफ्तारी कराने का मकसद शहर में हिंदू मुस्लिम भाईचारा बना रहे शांति बनी रहे और सब लोग प्यार मोहब्बत से मिलजुल कर रहे रोजा इफ्तारी के बाद दुआएं मांगी गई देश मे अमन सकून और सभी धर्म के लोगों में प्यार मोहब्बत बना रहे और देश में हो रहे जगह-जगह दंगों से निजात मिले शहर की जनता हाजी नौशाद अख्तर सैफी की प्रशंसा कर रही है

Please follow and like us:
%d bloggers like this: