fbpx

ग्वालियर क्राइम ब्रांच ने बंद हुई करेंसी के साथ तीन बदमाशों गिरफ्तार किया है।

ग्वालियर क्राइम ब्रांच ने बंद हुई करेंसी के साथ तीन बदमाशों गिरफ्तार किया है। बरामद की गई करेंसी सात लाख रूपये की बतायी गई है। एसपी नवनीत भसीन को शुक्रवार की सुबह मुखबिर से खबर मिली कि बेला की बावडी पर बद हो चुके पुराने नोट लेकर कुछ व्यक्ति मौजूद है। एसपी ने तुरंत एएसपी क्राइम पंकज पाण्डेय को मुखबिर द्वारा दी गई जानकारी से अवगत कराते हुए कार्यवाही के निर्देश दिये। एएसपी ने क्राइम ब्रांच प्रभारी विनोद छावई के नेतृत्व में टीम का गठन कर मुखबिर द्वारा बताये गये स्थान पर छापामार कार्यवाही करने के लिये रवाना किया।क्राईम ब्रांच की टीम को मुखबिर के बताये स्थान बेला की बाबड़ी तिराहा पर  तीन संदिग्ध व्यक्ति खड़े दिखे जो क्राईम टीम को देखकर मौके से भागने लगे। क्राईम टीम द्वारा तीनों संदिग्धों को पकड़कर तलाशी ली तो उनके पास से बंद हो चुकी करेंसी के पांच-पांच सौ रूपये की 14 गड्डी बरामद की । पूछताछ में बदमाशों ने अपने नाम श्याम सिंह पुत्र जयवीर सिंह यादव निवासी शिकोहावाद उ0प्र0 गौरव पुत्र मुकेट सिंह दिवाकर निवासी शिकोहावाद उ0प्र0  शुभम पुत्र रामनरेश राजौरिया निवासी अलका टॉकीज के पास करेली जिला नरसिंहपुर बताये। बंद हो चुकी करेंसी के संबंध में पूछने पर उन्होने बताया कि वह भोपाल से ग्वालियर लेकर आ रहे थे। पुलिस ने इन बदमाशों के पास से 500.500के कुल सात लाख रूपये बरामद किये । पुलिस ने इन आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

बदमाशों को पकड़ने में क्राइम ब्रांच के उप निरीक्षक विनोद छावई, दिनेश राजपूत, आरक्षक घनश्याम जाट, जितेन्द्र तोमर, शिवराम, लोकेन्द्र राणा, लोककेन्द्र कुशवाह, विकाश, योगेन्द्र तोमर की सराहनीय भूमिका रही। उक्त टीम को पुलिस अधीक्षक ग्वालियर द्वारा इनाम देने की घोषणा गई है

 

Please follow and like us:
%d bloggers like this: