नहाए-खाय के साथ चार दिवसीय चैती छठ महापर्व शुरू

रजौली मुख्यालय में हिन्दू नववर्ष के पहले महीने चैत्र के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को लोक आस्था सूर्य उपासना का महापर्व छठ व्रत मनाया जाता है।छठ व्रत अत्यंत ही पवित्र त्यौहार माना गया है, खासकर शरीर,मन और आत्मा की शुद्धि का व्रत है।वैदिक मान्यता है कि नहाय-खाय से सप्तमी के पारण तक उन भक्तों पर षष्ठी माता की कृपा बरसती है।महापर्व में भगवान सूर्य देव की आराधना की जाती है।संध्या अघ्र्य के दिन भगवान सूर्य को अस्त होते समय अघ्र्य दिया जाता है और उसके अगले दिन उदयीमान सूर्य को सूर्योदय का अघ्र्य दिया जाता है।

उगते हुए सूर्य को अर्घ्‍य देने के साथ ही चार दिवसीय महापर्व संपन्न होता है

चैती छठ महापर्व का चार दिवसीय अनुष्ठान पांच अप्रैल से नहाय-खाय में लौकी की सब्जी और अरवा चावल के भात बना कर छठ व्रती प्रसाद ग्रहण कर नहाय-खाए से चार दिवसीय अनुष्ठान का संकल्प लेंगे।आठ अप्रैल शुक्रवार को उदय मान सूर्य भगवान को अघ्र्य अर्पित कर महा पर्व का समापन किया जाएगा। चैती छठ में नहाय खाय के दिन सम्पूर्ण स्वच्छता का ध्यान रखते हुए व्रत के लिए गेहूं और चावल को धोकर सुखाया जाता है। छठ पूजा मैं खरना के प्रसाद का विशेष महत्व माना गया है खरना प्रसाद में छठ व्रती आम के लकड़ी से मिट्टी के चूल्हे पर ईंख के कच्चे रस,गुड़,अरवा चावल का खीर बनाकर छठ मैया को भोग लगा महा प्रसाद ग्रहण करती हैं। तथा घर परिवार के लोगों को तथा आगंतुकों को महाप्रसाद देती है।

लोक आस्था,श्रद्धा एवं भक्ति कि वह रही बयार,छठ पूजा की तैयारी जोरों पर

चार दिवसीय सूर्योपासना का महापर्व चैती छठ पूजा पांच अप्रैल मंगलवार को नहाए खाए के साथ प्रारंभ हो गया।डीह रजौली निवासी पप्पू पांडेय के अनुसार छह अप्रैल बुधवार को खरना,सात अप्रैल गुरुवार भगवान भास्कर को संध्या अघ्र्य तथा आठ अप्रैल शुक्रवार को उगते सूर्य को अघ्र्य अर्पित करने के साथ छठ पूजा का समापन होगा तथा छठ व्रती पारण करेंगे। बुधवार को खरना होगा।चैती छठ व रामनवमी को लेकर पूरा रजौली क्षेत्र भक्तिमय हो गया है।रजौली क्षेत्र में चारों तरफ भक्ति की बयार बह रही है,कांच ही बांस के बहंगिया…बहंगी लचकत जाए…होख न सुरुज देव सहइया, बहंगी घाट पहुंचाए।छठ महापर्व को लेकर नदी,छठ घाट की साफ सफाई कराई जा रही है।रजौली बाजार के अलावे अन्य बाजार में छठ पूजन की सामग्री बिक रही है।छठ पूजा को ले रजौली क्षेत्र के बाजारों में रौनक देखी जा रही है। इस वर्ष चैती छठ के समय कोविड-19 का प्रकोप कम होने से लोगों में खासा उत्साह देखा जा रहा है।

चैती छठ में आसमान छूती मंहगाई

आसमान छूती महंगाई के बावजूद छठ व्रती अपने सामथ्र्य के अनुसार पूजन सामग्री की खरीददारी कर रहे है।छठ व्रतियों के लिए स्वयंसेवी संगठन के द्वारा प्रकाश व ध्वनि की व्यवस्था छठ घाट पर की जा रही है।थानाध्यक्ष सह इंस्पेक्टर दरबारी चौधरी ने बताया कि जिला प्रशासन के द्वारा लोक आस्था के छठ महापर्व पर जिला प्रशासन की ओर से छठ घाटों पर दंडाधिकारी सहित पुलिस के जवान की तैनात की जा रही है।छठ व्रत करने वाले व्रतियों को कोई परेशानी ना हो इसका पूरा ख्याल रखा जाएगा।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: