उप विकास आयुत्त की विदाई सह सम्मान समारोह समाहरणालय सभाकक्ष अरवल में आयोजित किया गया

अरवल (मृत्युंजय कुमार) :- जिला पदाधिकारी सुश्री जे प्रियदर्शिनी एवं पुलिस अधीक्षक श्री हिमांशु शंकर त्रिवेदी किया संयुक्त अध्यक्षता स्थानांतरित उप विकास आयुक्त श्री मति अमृषा बैंस का विदाई सह सम्मान समारोह समाहरणलय सभाक़क्ष अरवल में आयोजित किया गया। इस अवसर पर उपस्थित पदाधिकारियों पुलिस अधीक्षक श्री हिमांशु शंकर त्रिवेदी, सहायक पुलिस अधीक्षक रौशन कुमार, अनुमंडल पदाधिकारी दुर्गेश कुमार, निदेशक डीआरडीए प्रियंका कुमारी, डीटीओ मृत्युंजय कुमार, वरीय उपसमाहर्ता राजेश रंजन, डीसीएलआर बृजकिशोर पांडेय, सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी जिला अरवल एवं अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।
सभी वक्ताओं ने श्रीमती अमृषा बैंस के संबंध में अपने अनुभवों एवं यादों को साझा करते हुए उनके सुखद भविष्य की कामना की। वक्ताओं ने उप विकास आयुक्त को परिश्रमी एवं लक्ष्य की प्राप्ति के लिए सदैव प्रयत्नशील बताते हुए अपने संबोधन में उप विकास आयुक्त के तरक्की के लिए शुभकामनाएं दीं। उन्होंने बताया कि यद्यपि उप विकास आयुक्त को कभी-कभी गुस्सा भी आता था किंतु उन्होंने सदैव नेतृत्व क्षमता दर्शाते हुए कनिष्ठ पदाधिकारियों का मार्गदर्शन किया एवं समय पड़ने पर उनका बचाव भी किया है।
उप विकास आयुक्त श्रीमती अमृषा बैंस ने भी अरवल जिले में पदस्थापन के दौरान के यादों एवं अनुभवों को साझा किया। उन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण, आवास प्लस, मनरेगा, आंगनवाड़ी निर्माण, शैक्षणिक सुधार कार्य, सामुदायिक स्वच्छता परिसर, ठोस एवं तरल अपशिष्ट प्रबंधन, कोविड को नियंत्रित करने के प्रयासों के बारे में भी चर्चा की।
इस अवसर पर जिला पदाधिकारी ने उप विकास आयुक्त को तरक्की करने की शुभकामनाएं दी और कहा कि उप विकास आयुक्त सौंपे पर गए काम को पूरा करने में यकीन करती हैं और इसी वजह से जो भी काम उन्होंने प्रारंभ किया, उसे अंजाम तक पहुंचाया।
जिला पदाधिकारी ने उनके स्थानांतरण उपरांत उत्तम एवं सुखद जीवन की कामना करते हुए कैरियर में आगे बढ़ने की शुभकामना दी। उप विकास आयुक्त द्वारा जिले में किए गए विकासात्मक कार्यों की उन्होंने सराहना की। जिला पदाधिकारी ने कहा कि आपने यहां बेहतर कार्य किया है और उम्मीद है कि अपना बेहतर प्रदर्शन गया में भी जारी रखेंगी। उन्होंने कहा कि बिहार में लोक सेवकों के लिए काम करने के लिए अनंत संभावनाएं हैं और वे अपने काम से आम लोगों का हृदय जीत सकती हैं।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: