साहब मीटिंग में डॉक्टर निजी नर्सिंग होम में अस्पताल में तड़प रहे मरीज

क्रासर
सरकारी अस्पतालों को दुर्दशा में ढकेल कर सरकारी चिकित्सक निजी नर्सिग होम में मस्त

एनडी तिवारी दैनिक समाज जागरण

कौशांबी जिले में स्वास्थ्य व्यवस्था पूरी तरह से बेपटरी हो गई है सरकारी अस्पतालों में तैनात चिकित्सक निजी नर्सिग होम में सेवा देकर दोहरा लाभ उठा रहे हैं और मुख्य चिकित्सा अधिकारी से लेकर अपर चिकित्सा अधिकारी सरकारी अस्पतालों के चिकित्सकों के कृत्य पर नजरअंदाज कर रहे हैं जिससे सरकारी अस्पताल में मरीज तड़प रहे हैं सरकार की पूरी स्वास्थ्य व्यवस्था कौशांबी जिले में चौपट हो गई है अवैध तरीके से चलने वाले निजी नर्सिंग होम और झोलाछाप डॉक्टरों की बाढ़ आ गई है जिनसे अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा प्रत्येक महीने एक निर्धारित रकम की अवैध वसूली की जाती है जिले में सब कुछ बेखौफ तरीके से हो रहा है लेकिन फिर भी जिला प्रशासन अनजान बन कर शासन को झूठी रिपोर्ट देकर गुमराह कर रहा है सरकारी चिकित्सकों के लापरवाही के चलते तड़प रहे मरीजों को महंगा इलाज के लिए निजी नर्सिंग होम में मजबूरन जाना पड़ रहा है आखिर इस चौपट स्वास्थ्य व्यवस्था के जिम्मेदारों पर योगी सरकार कब कठोर कार्यवाही करेगी ताजा मामला प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मूरतगंज का है जहां पूरे दिन अस्पताल में एक भी चिकित्सक नहीं पहुंचे हैं जबकि इस अस्पताल में चिकित्सक कर्मचारियों सहित एक दर्जन लोगों को प्रत्येक महीने वेतन दिया जा रहा है अस्पताल परिसर में कई मरीज तड़पते देखे गए हैं जिन्हें लाल पीली दवाएं देने वाला भी इस सरकारी अस्पताल में कोई मौजूद नहीं था

इनसेट
ओपीडी कक्ष से नदारत रहे कर्मी प्रभारी को ताक पर रख कर रहे नौकरी

कौशाम्बी चायल तहसील के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मूरतगंज में लापरवाह स्वास्थ्य कर्मी ओपीडी कक्ष में नही बैठते प्रभारी डॉ सुनील कुमार ऑनलाइन मीटिंग कर रहे थे और महिला डॉक्टर गायब थी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में तैनात कर्मी अपने मन मौजी काम कर रहे हैं ओपीडी कक्ष में कोई मौजूद नहीं होने के कारण मरीज बाहर घंटो से इंतजार कर रहे हैं फिर भी ओपीडी में मरीज को देखने कोई नही पहुंचा इस तरह की लापरवाही प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में तैनात स्वास्थ्य कर्मी कर रहे है जिससे सरकारी स्वास्थ्य व्यवस्था से मरीजों का विश्वास उठ रहा है

इनसेट
प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मूरतगंज में सालों से खराब पड़ा है हैंड पम्प

कौशाम्बी मरीजों को पानी के लिए अस्पताल से बाहर जाना पड़ता है प्रभारी अधिकारी के कक्ष के बगल में ही हैंडपंप लगा है लेकिन हैंडपंप खराब है अधिकारी की नजर आज तक नही पड़ी है विभाग के लिए समरसेबल लगा है लेकिन उससे मरीजों को पानी नहीं मिल पाता है।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: