रत्नेश मिश्र आप प्रवक्ता: संजय सिंह रामद्रोही, पार्टी फंड चुराकर बनाया आलीशान महल

आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह अब अपने ही पार्टी के नेता और आम आदमी के युथ विंग के निशाने पर आ गये है। आम आदमी पार्टी युथ ब्रिगेड के प्रवक्ता ने रत्नेश मिश्र नें प्रेस वार्ता करके आम आदमी पार्टी को झुठा और रामद्रोही बता दिया। यही नही रूके उन्होंने संजय सिंह पर पार्टी के फंड चुराकर अपने गाँव सुल्तानपुर में बड़ा आलीशन मकान बनाने का आरोप भी लगाया है। उन्होनें कहा की उनके द्वारा राम मंदिर ट्रस्ट पर लगाया गया आरोप बिल्कुल झुठा है। यहाँ पर कोई घोटाला नही हुआ है। मुझे इस क्षेत्र में मंदिर के खिलाफ माहौल बिगाड़ने की जिम्मेदारी सौपी गयी थी। लेकिन जब मै यहाँ आकर देखा तो कोई भी घोटाला नही है। बल्कि इससे मै आहत हूँ कि संजय सिंह जो स्वयं ही पार्टी फंड की चोरी कर रहा है वह व्यक्ति राम मंदिर ट्रस्ट पर किस आधार पर आरोप लगा दिया।

राम मंदिर निर्माण में नहीं हुआ है कोई घोटाला,संजय सिंह ने पार्टी फंड चुराया, चाटुकार और झूठा है!गोंडा का निवासी होने की वजह से मुझे दिल्ली से अयोध्या में संतों को ट्रस्ट एवं बीजेपी के विरुद्ध माहौल तैयार करने को बोला गया।अयोध्या पहुंच कर मुझे ऐसा लगा कि संजय सिंह पाप कर रहा है। ट्रस्ट द्वारा जमीन खरीदने के हर पहलू पर मैंने चर्चा की है,जो सही है। मेरे पिता रमेश चंद्र मिश्र का निधन कार सेवा के दौरान हुआ था’ – आम आदमी पार्टी यूथ ब्रिगेड उत्तर प्रदेश के प्रवक्ता रत्नेश मिश्रा!
पार्टी से निकालने की मांग करूंगा’
उन्होंने आगे कहा कि संजय सिंह पार्टी का फंड खाते हैं एवं पार्टी का पैसा चुराकर सुलतानपुर में आलीशान मकान बनवाया। उन्होंने कहा कि पार्टी फंड का पैसा चुराने वाले चोर के राम मंदिर पर सवाल उठाने से मैं आहत हूं। माननीय मुख्मंत्री अरविंद केजरीवाल जी का सच्चा सिपाही हूं और सदेव रहूंगा। उन्होंने कहा कि संजय सिंह को पार्टी से निकालने की मांग करूंगा।
क्या है पूरा मामला?
अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा राम मंदिर निर्माण के लिए खरीदी गई जमीन पर सवाल उठाए गए हैं। समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता व पूर्व मंत्री तेज नारायण पांडेय पवन ने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट पर जमीन खरीद में भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि दो करोड़ रुपये में बैनामा करा ली गई भूमि का 10 मिनट के अंदर 18.50 करोड़ रुपये में रजिस्टर्ड एग्रीमेंट कर दिया गया। यह भूमि सदर तहसील क्षेत्र के बाग बिजैसी में स्थित है, जिसका क्षेत्रफल 12 हजार 80 वर्ग मीटर है। पूर्व मंत्री ने कहा कि यह भूमि रवि मोहन तिवारी नाम के एक साधु व सुल्तान अंसारी ने बैनामा ली थी। ठीक 10 मिनट बाद इसी भूमि का ट्रस्ट के महासचिव चंपतराय के नाम 18.50 करोड़ में रजिस्टर्ड एग्रीमेंट दिया गया। उन्होंने आरटीजीएस की गई 17 करोड़ रुपये धनराशि की जांच कराने की मांग की है।

AAP ने भी लगाया भष्ट्राचार का आरोप
वहीं, आम आदमी पार्टी (AAP) से राज्यसभा सदस्य व उत्तर प्रदेश प्रभारी संजय सिंह ने भी श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाते हुए उसकी जांच CBI और प्रवर्तन निदेशालय (ED) से कराने की मांग की है। संजय सिंह ने कहा कि ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने संस्था के सदस्य अनिल मिश्रा की मदद से दो करोड़ रुपये कीमत की जमीन 18 करोड़ रुपये में खरीदी। यह सीधे-सीधे मनी लॉड्रिंग का मामला है।

रत्नेश मिश्र के इस ब्यान के बाद भी सवाल उठना लाजमी है कि क्या यह बाकई में एक आरोप है या फिर किसी टूल किट का हिस्सा। क्योंकि राम मंदिर का विरोध सिर्फ संजय सिंह ने नहीं बल्कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल नें भी किया था। आपको तो पता ही होगा कि केजरीवाल के नानी नें क्या कही थी। मस्जिद को तोड़ मंदिर बने उसमें राम कैेसे रह सकता है। फिर पलटी मारना कि दिल्ली के सभी बुजुर्गों को आयोध्या फ्रि ले जायेंगे। उसके बाद आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं के द्वारा चंदा पर सवाल उठाना और आरएसएस कार्यकर्ताओं के साथ दुर्व्यवहार करना यह सब महज एक संयोग तो नहीं था। इसके बाद संजय सिंह के द्वारा इस तरह के ब्यान देना और आरोप लगाना। फिर रत्नेश मिश्र के द्वारा अपने आपकों केजरीवाल का सिपाही बता देना। अब सवाल उठता है कि जिस पार्टी का जड़ ही खराब है उसके तन्ने से क्या उम्मीद की जा सकती है कि वह सच बोल रहा हो।

कौन नही जानता है कि आम आदमी पार्टी के राजनीतिक विचार हिंदू विरोध में कितना ग्रस्त है। लेकिन हैरानी कि बात है कि फिर भी हिंदू केजरीवाल को अपना हीरो मानता है। दिल्ली दंगा में आम आदमी पार्टी के नेताओं का शामिल होना और उसे राजनीतिक संरक्षण मिलना किसी से भी छुपा नही है। बस दिल्ली वालों को फ्रि कि बिजली पानी चाहिए।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: