मुसहरी टोली के एक खाली घर में छुपा कर रखा गया 200 कार्टन अंग्रेजी शराब बरामद

-जप्त शराब की बाजार कीमत 20 लाख से अधिक
वारिसलीगंज (नवादा) (अभय कुमार रंजन):-वारिसलीगंज थाना क्षेत्र के सौर पंचायत की हेमदा गांव के मुसहरी स्थित एक घर में छुपा कर रखा गया विभिन्न ब्रांडों का 200 कार्टन (1760 लीटर) अंग्रेजी शराब पुलिस ने बरामद किया है। जबकि कारोबारी की पहचान नहीं हो सकी है। छापेमारी गुप्त सूचना के आधार पर बुधवार की शाम हुई।
थाना अध्यक्ष पवन कुमार के अनुसार हेमदा मुसहरी टोला निवासी सरजन मांझी के घर में बिक्री के लिए छिपाकर रखा गया भारी मात्रा में अंग्रेजी शराब होने गुप्त सूचना पुलिस को मिली थी। सूचना के आधार पर वारिसलीगंज एसआई दशरथ चौधरी के नेतृत्व में टीम गठित कर बुधवार की देर शाम छापेमारी की गई। जहां कमरे में रखा हुआ विभिन्न कंपनियों के विभिन्न साइज के बोतलों में कुल 199 कार्टन अंग्रेजी शराब घर में रखा हुआ पाया गया। कुल 1760 लीटर शराब बरामद कर थाना लाया गया। जबकि शराब कारोबारियों की पहचान करने की कोशिश में पुलिस जुटी है।
ग्रामीण सूत्रों के अनुसार गृहस्वामी सर्जन मांझी सभी परिवार घर के दरबाजे को इंट से बन्द कर दूसरे प्रदेश के ईट भट्ठा पर मजदूरी करने के लिए गया हुआ है। जिसका फायदा उठाते हुए शराब कारोबारी खाली रहे घर में बिक्री करने के लिए बड़ी मात्रा में शराब छिपाकर कर रखा था। पुलिस द्वारा जप्त शराब में विभिन्न ब्रांडों का 199 कार्टन यथा (1760 लीटर) बरामद किया गया। जिसमें मुख्य रुप से मैकडॉवेल 180 एमएल का 79 कार्टन, मैकडॉवेल का ही 750 एमएल का 100 कार्टन, ऑफीसर च्वाइस का 03, स्टार ब्लू का 03, रॉयल चैलेंज का 10 कार्टन अंग्रेजी शराब बरामद कर थाना लाया गया। जप्त अंग्रेजी शराब की बाज़ार मूल्य करीब 20 लाख बताई जा रही है। बता दें कि प्रखंड के अधिकांश मुसहरी टोला के अनुसूचित परिवार रोजगार करने करीब छह माह तक सपरिवार अपने घरों से बाहर रहते हैं। इस बीच उनके खाली पड़े घर का फायदा उठाते हुए शराब कारोबारी उसमें शराब संग्रह करते है। जिसकी बिक्री से मोटी कमाई अर्जित करते हैं। करीब 03 बर्ष पहले भी नगर क्षेत्र के माफी मुसहरी टोला के एक खाली घर से लाखों रुपए मूल्य का शराब बरामद किया गया था।
-हिमाचल प्रदेश निर्मित है शराब:-
हेमदा गांव से बड़ी मात्रा में जप्त शराब के बोतल पर मेड इन हिमाचल लिखा हुआ है। बड़ी बात यह है कि वारिसलीगंज थाना क्षेत्र में जप्त शराब हिमांचल प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश एवं झारखंड राज्य का निर्मित होता है। बिहार में पांच सालो से शराबबंदी कानून लागू है। जिस कारण देशी-विदेशी शराब बेचने और पीने की सख्त मनाही है। जिसके लिए राज्य की सीमा क्षेत्र पर सघन जांच चौकी बनाई गई है।जहां दूसरे प्रदेश से आने वाले माल वाहक वाहनों को प्रवेश से पहले गहन जांच किया जाता है। बावजूद इतनी बड़ी मात्रा में शराब पहुंचना जांच केंद्रों पर तैनात सुरक्षाकर्मियों की मिलीभगत को बताने के लिए काफी है। दूसरी ओर शराब बंदी के दौरान दूसरे प्रदेश के रैपर लगा नकली अंग्रेजी शराब राज्य में चोरी छिपे निर्माण कर बेचने का खेल भी खूब फूल फल रहा है।

Please follow and like us:
%d bloggers like this: