fbpx

👆🏻जनसंपर्क. भोपाल में मध्यप्रदेश शासन के खेल मंत्री जीतू पटवारी जी की प्रेस कॉन्फ्रेंस में इने गिने उंगलियों पर गिन सकते हैं बिल्कुल नाम मात्र के लोगों को बुलाने से पत्रकार जगत में एक

विस्फोट और हो चुका है कि जनसंपर्क और कितना पक्षपात करेगा पत्रकारों के साथ में यह वरिष्ठ अधिकारी अपने आप को बता रहे हैं और सरकार की योजनाओं को छुपाने दबाने और उल्टी गंगा बहाने में ही लगे हुए हैं क्यों भोपाल के सम्माननीय पत्रकारों को खबर नहीं पहुंचाते हैं 9:00 व्ता देते हैं ना सम्मान से भुलवा पाते हैं मात्र और मात्र फोन पर ऐसे इशारा करते हैं जैसे कि हम पत्रकार इनके खरीदे हुए हैं वहीं जहां तक है हमारे सम्मानित लोगों को सूचना मिलती है वह बड़े सम्मान से जाकर और आदर के साथ में कवरेज कर लिया करते हैं मैं जो उपस्थित पत्रकार जो साथियों को धन्यवाद देता हूं वह अपनी मर्यादा के साथ में आकर उन्हें उन्होंने इस कार्यक्रम की गरिमा पड़ता है बड़ा ही है और जो नहीं आए हैं जो नाखुश है वह इन कर्मचारियों से इतने नाराज हो चुके हैं
भोपाल मध्य प्रदेश के पत्रकार कि हम बता नहीं सकते क्योंकि यह हमेशा हर कदम कदम पर पत्रकारों के साथ पक्षपात कर रहे हैं या बात किसी को हजम नहीं हो पा रही है
🙏🏻🌹आज दिनांक 21 जनवरी 2019 दिन सोमवार समय शाम 8:00 बजे पत्रकार वार्ता में गिने चुने सम्मानीय पत्रकार को बुलाया बाकी कोना बुलाने से एक बड़ा भारी विस्फोट हो चुका है मध्य प्रदेश जनसंपर्क के कुछ 45 अधिकारी जो पिछले कई सालों से जमे जकड़े हैं
और पत्रकारों के साथ पीछे से पक्षपात करना और सरकार को चूना लगाना एवं अपने आप को पाक साफ बतलाना और आपस में बनाने वाली बातें करना और कुछ पत्रकारों को अपने कब्जे में लेकर अपने हिसाब से उनके कान में सरकार की कमियों को बताकर उनसे चिल्लाना लिखवाना और सरकार में हो रहे विकास पर उंगली👆🏻 उठाने के अलावा कोई काम नहीं कर पाते हैं
ऐसे अधिकारियों को लोगों ने सर पर चढ़ा कर रखा है
पिछले कई साल से यहां पर जमे जकड़े हैं
जब हम लगभग 2000 पत्रकारों को 15 अगस्त को या 26 जनवरी हो या कोई भी फेस्टिवल पर साल के 4 विज्ञापन देते हैं तो क्यों ना हम सरकार की अपनी संपूर्ण एक्टिविटीज की जानकारी मध्यप्रदेश जनसंपर्क एवं मध्य प्रदेश माध्यम की प्रेस कांफ्रेस होती है तो सभी प्रकार की जानकारियों का विस्तार से एवं प्रेस नोट के जरिए उसमें अपनी एक्टिविटीज डेट वाइज प्रेस कॉन्फ्रेंस का हवाला देते हुए हर चीज की हर योजनाओं की जानकारी पत्रकारों को जब भी मध्यप्रदेश माध्यम हो हो या जनसंपर्क विभाग में आते हैं उसका पूरा बेवरा नहीं दिया जाता है जोकि मतलब आज की जो कॉन्फ्रेंस हुई है जनसंपर्क में आज के प्रेस नोट के साथ में पूर्व की संपूर्ण जानकारी के साथ पिछली जितनी भी कॉन्फ्रेंस हुई है उसका शॉर्ट में विधिवत तरीके से एक फोल्डर वह भी देते रहना चाहिए ताकि हमारे पत्रकार बंधुओं को यह सब जानकारी मिलती रहें और समाज के सामने जनता के सामने हम रख सके ऐसा क्यों नहीं करते हमारे अधिकारियों बल्कि इनके पास जरूरत से ज्यादा इन्होंने अपने कर्मचारियों को बिठा रखा है जो किसी काम के नोट्स बहुत ज्यादा इंपॉर्टेंट नहीं होते हैं उसके लिए आप ने जरूरत से ज्यादा स्टाफ को विट्ठल कर अपने खुद के निजी काम करवाते हैं ऐसा सूत्रों से भी मालूम पड़ा है पत्रकारों की प्रेस कॉन्फ्रेंस में लोग आपके यहां किसी उम्मीद से नहीं आते हैं मात्र एक उम्मीद जरूर रहती है कि उनको हमारी सरकार ने अभी तक कई अनेक योजनाएं हमारी साडे सात करोड़ जनता के लिए निकाला है
इसको विस्तार पूर्वक बताते हुए पुराने प्रेस नोट के साथ ने प्रेस नोट में इंक्लूड भी करना चाहिए नया तो अलग से चाहिए ही पड़ता है क्योंकि सम्माननीय मंत्री जीतू पटवारी जी की आज की कॉन्फ्रेंस के साथ पिछला रिकार्ड जो नए पत्रकार आए हुए हैं उनके नॉलेज में भी यह बात होना चाहिए आज कई पत्रकार जनता को यह सारी जानकारी नहीं दे पा रहा है इसके अभाव में कांग्रेस पार्टी की सरकार को मध्यप्रदेश माध्यम एवं जनसंपर्क के अधिकारियों की सबसे बड़ी लापरवाही देखी जा रही है पत्रकारों की नजर में इतने ज्यादा कर्मचारियों को वहां पर अपने निजी कामों के लिए बैठा लिए है और कहने को ऐसा लगता है कि पूरे भोपाल के अंदर जरूरत से ज्यादा प्रेस नोट बांटने के लिए गाड़ियां लगा रखी है जब हम ऑनलाइन सारे डेली अखबार इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को सूचना दे रहे हैं फिर इतनी लंबी चौड़ी टीम का क्या मतलब है किस वजह से दुरुपयोग किया जा रहा है इसका किसी ने आकलन किया है किसी ने नहीं किया है हर अधिकारी के पास दो-दो तीन-तीन कर्मचारी उनके घंटी पर बैठे हुए हैं चाय अधिकारी आए ना आए उसका दुरुपयोग जबरदस्त तरीके से मध्य प्रदेश की सरकार में शुरू से देखने को मिल रहा है अब आने लगी है सम्माननीय मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी से की यह अधिकारी फिर से गुमराह करना शुरू कर दिए हैं पत्रकारों के कानपुर देते हैं पत्रकार उधर जाकर कांग्रेसियों को अपने हिसाब से सवाल जवाब में जुड़ जाते हैं पत्रकार आखिर करे तो करे क्या पत्रकार विचारों को तो कुछ ना कुछ लिखने को रोज चाहिए नहीं लिखेंगे तो ना कॉन्ग्रेस पूछेगी ना विपक्ष पूछेगी ना जनता पूछेगी ना अधिकारी पूछेंगे यह सब छापने के लिए सम्मानीय पत्रकारों को विधिवत हर बार पिछले रिकॉर्ड के साथ नई प्रेस कान्फ्रेंस की कंप्लीट पूरी जानकारी की आवश्यकता पड़ती है
ऐसा क्यों दिमाग नहीं लगा रहे हैं कि कम से कम कर्मचारियों में अधिक से अधिक काम ले सके और मध्य प्रदेश जनसंपर्क के माध्यम से हम जनता को पूरी जानकारी सरकार की चलाई जा रही योजनाओं को हम दे सके उस पर किसी भी अधिकारी का दिमाग नहीं गया है कैसे हम मंत्रियों को अपनी पट्टी पढ़ाएं और कैसे गुमराह करें जरूरत से ज्यादा एक छोटे से काम के लिए एक एक या दो दो कर्मचारियों को इंगेज करके रखा है यह भी देश के साथ में अन्याय एवं खिलवाड़ हो रहा है जहां जरूरत है वहां पर कर्मचारियों की कमी देखी जा रही है ऐसा नहीं है सरकारी योजनाओं में कई जगह कर्मचारी लोग बैठे की तंखा ले रहे जनसंपर्क में आज वही हाल देखने को मिल रहा है ऑनलाइन होने के बावजूद बहुत बड़ा लंबा चौड़ा स्टाफ मात्र 2 घंटे के लिए इंगेज करके रखा है
पत्रकार जब प्रेस कॉन्फ्रेंस में आता है तो होटल पलाश के दो बिस्कुट और एक चाय के लिए नहीं आता है रात को 8:00 बजे आप रखते हैं वह मात्र खबर लेने के हिसाब से आता है ना तो उसको पूरी खबर दी जाती है ना तो पिछली कांग्रेस सरकार में मुख्यमंत्री माननीय कमलनाथ जी ने अपनी योजनाएं को शुरू की है और आज वह शिखर पर पहुंचने लगी है उसकी जानकारियों को हर पत्रकार को रिपीट करने की आज आवश्यकता है वह हमारे अधिकारी इसको दिमाग में लेकर आ रहे हैं ना तो हमारे मंत्री हो या विधायक हो या हमारे कांग्रेस के प्रवक्ता उसको द्वारा रहे हैं सब कहीं ना कहीं मध्य प्रदेश जनसंपर्क की कमी के कारण देखा जा रहा है यदि हमारे कांग्रेस के प्रवक्ता या सांसद या विधायक या मंत्री के प्रवक्ता नहीं बोल पाते हैं तो कम से कम हमारा डिपार्टमेंट सरकारी योजना का तो प्रचार-प्रसार नियम अनुसार नियमित जब कभी भी पी सी होती है तो एक फोल्डर उनको मध्य प्रदेश कांग्रेस की सरकार में जनहित और मध्य प्रदेश के साढे सात करोड़ जनता के लिए लाभ पचाने वाली योजना महिला किसान युवा कॉलेज स्वास्थ्य विभाग की योजनाओं की जानकारी मिलते रहना चाहिए
मगर अधिकारी बिल्कुल नहीं दे रहे हैं इस पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है और और हजारों की तादाद में हमारे पत्रकार भाई इस बात के लिए नाराज हैं कि उन्हें सरकार की योजनाओं की जानकारी नहीं दी जाती है और वंचित रखा जाता है मात्र 26 जनवरी के विज्ञापन के लिए है ऐसा लगता है जनसंपर्क के अधिकारियों को एक बड़ा छल कपट और अन्याय है आज दिन सोमवार 21 जनवरी 2019 समय रात की 8:00 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस के अंदर जनसंपर्क में मात्र गिनती के 40 पत्रकार भी नहीं थे क्योंकि जनसंपर्क पर विश्वास नहीं रहा है
हजारों की तादाद ने पत्रकार साथियों को उन्होंने यह समझ के रखा है कि मात्र 26 जनवरी के लिए हमें इन्हें एड देना है विज्ञापन देना है इसके अलावा हमारा कोई काम नहीं है ना तो इन पत्रकारों को सम्मान से बुलाया जाता है और ना ही कोई जानकारी देने को राजी है जैसे ऐसा लगता है अधिकारी को कि हमारे जेब के पैसे दे रहे हैं या हमें अपने जेब के डॉक्यूमेंट देना है हमारे जेब की जानकारी देना है पत्रकार को अच्छा लगता है कि आप सरकार के फालतू विज्ञापनों पर रोक लगाई है हम इस चीज का बहुत सम्मान करते हैं माननीय मुख्यमंत्री कमलनाथ जी का
अभी तक चलाई जा रही योजनाओं में गिने चुने पत्रकारों के माध्यम से ही यह बात जनता तक पहुंचाई जा रही है हजारों की तादाद में पत्रकार सरकार की एक्टिविटीज छापने को तैयार है मगर हमारे अधिकारी पत्रकारों को कोई जानकारी नहीं दे रहा है आज की तारीख में और नहीं जनसंपर्क विभाग में प्रेस कॉन्फ्रेंस 21 जनवरी 2019 को दिन सोमवार श्याम ठीक 8:00 बजे जो पत्रकार हुई इससे बड़ा विस्फोट हो गया है पत्रकारों में आखिर जनसंपर्क के अधिकारी पत्रकारों से क्यों डरने लगे हैं उन पत्रकारों को नहीं बुलाया जाता है जिससे इनको डर लगता है कहीं सरकार की पोल तो ना खोल दे यह पत्रकार और हमारी चला कि हमारी नीति को समझ ना सके और कांग्रेस के नेताओं को बता ना सके इस चक्कर से दूरी बढ़ाने के लिए इन लोगों ने पत्रकारों को बुलाना छोड़ दिया है गिने चुने पत्रकारों को फोन जरूर करते हैं और 26 जनवरी के पत्र विज्ञापन के लिए मांग रहे हैं
इनविटेशन कार्ड भी प्रचार प्रसार करने वाले सम्मानित पत्रकारों को आज भी नहीं दिया जाता है और पत्रकारों से मीठी बात कर पत्रकारों के प्रति उल्टा व्यवहार और उल्टा का भैया रहता है अधिकारी और कर्मचारियों का रवैया इस वक्त जनसंपर्क कभी ठीक नहीं है
हमें खुशी है पत्रकारों के नाम पर 10 परसेंट सम्मानीय पत्रकारों को बुलाया जाता है इस बात पर हमें गर्व है जनसंपर्क हम धन्यवाद देते हैं
ना तो नब्बे परसेंट पत्रकारों से प्रचार-प्रसार कार्रवाई आता है और ना ही उनको इनविटेशन दिया जाता है नहीं उनको प्रेस कॉन्फ्रेंस में बुलाया जाता है नहीं उनसे प्रचार-प्रसार भी नहीं करवाया जाता है जिससे कांग्रेस पार्टी को बड़ा नुकसान का सामना करना पड़ रहा है वहीं लोकसभा में और भी इससे बड़ा नुकसान ना करना पड़े कांग्रेस पार्टी को इसके लिए जनसंपर्क अधिकारियों से सावधान रहें और जो भ्रष्ट बेईमान और पत्रकारों से दूरी बढ़ाकर रखने वाले अधिकारियों को तत्काल जनसंपर्क से बाहर किया जाए और ज में जकड़े पुराने लोगों को इन सीटों से हटाया जाए और भोपाल से हटाया जाए ऐसा पत्रकार लोग मांग कर रहे हैं
बहुत सारे अच्छे पत्रकार प्रेस कॉन्फ्रेंस में जाते हैं और 90 परसेंट आज भी वंचित रह रहे हैं प्रचार प्रसार के लिए प्रेस कॉन्फ्रेंस से वह कभी उम्मीद भी रखते हैं इनसे किसी भी चीज की ना तो इनके पास जाते हैं जैसा कि आज भी प्रेस कॉन्फ्रेंस थी बहुत ज्यादा पत्रकार को नहीं बुलाया 40 से ऊपर पत्रकार होंगे तो मैं उनको सम्मान के साथ में अवार्ड देना चाहूंगा कोई नहीं आते आजकल इन पर विश्वास उठ गया है और यह उन्हीं लोगों को बुलाते हैं जिन पर विश्वास नहीं करते हैं और जो इनको डंडा करते हैं उनको भी कभी-कभी बुलवा लेते हैं डंडा करवाते रहते हैं ऐसा भी पता लगा है हमारे संबंध पत्रकार 90 वर्ष जनसंपर्क से जुड़ना चाहता है और प्रचार-प्रसार कांग्रेस के फेवर में करना चाहता है ताकि कांग्रेस की जो भी इसकी में जो भी योजना है ताकि हम जनता तक पहुंचाने में कामयाब हो सके कांग्रेस सरकार और जो काम नहीं कर पाती है उसको भी हम जनता को बताना चाहते हैं कि आखिर सरकार कितने तेजी में प्रदेश के विकास के लिए काम कर रही है
ईमानदार पत्रकारों से जनसंपर्क विभाग ने दूरी बना रखी है
दिखावा के लिए सम्मानित पत्रकारों को बताते की हमारे यहां पर बहुत साफ सुथरा काम चल रहा है मगर सब गोलमाल है भाई सब गोलमाल है पत्रकारों का हक इन्हीं के चहेतों को लाभ पहुंचाते हैं और इन्ही से सरकार के बारे में उल्टा सीधा यहां के अधिकारी भी 32 दिल होते हैं कांग्रेस सरकार को इस चीज का ध्यान रखने की हमें आवश्यकता है
यहां पर दोगले किस्म के अधिकारियों को तत्काल हटवाने की आवश्यकता है यह अपने पहचान और से जारी बता कर फंसे हुए हैं और पोल खोल रहे हैं आज भी यहां पर गलत किस्म के पत्रकार जुड़े हैं और अधिकारी भी उन्हीं का साथ दे रहे हैं जिससे कांग्रेस को बहुत बड़ा खतरा हो सकता है सावधान रहने की आवश्यकता है कांग्रेस पार्टी को और नब्बे परसेंट पत्रकारों को सम्मान में जो कमी दिख रही है बढ़ाने की आवश्यकता है जनसंपर्क विभाग को और कांग्रेस के सभी मंत्री एवं विधायकों को सोचने की आवश्यकता है
😜कांग्रेसमें आज भी लोग बता रहे हैं कि बीजेपी के जो भ्रष्ट अधिकारी मंत्रियों के बंगले पर तलवे चाट रहे हैं और सारी बता कर घुसपैठ बना रखी है इन पर ध्यान रखने की पड़ी भारी आवश्यकता है मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार को
भ्रष्ट अधिकारी सब मंत्रियों के बंगले पर आना शुरू हो गए हैं जिससे कांग्रेस को बड़ा भारी नुकसान होने की पूरी पूरी संभावना है अब कोई नहीं रोक सकता है कांग्रेसी फिर भी पक्ष में आकर बैठ जाएगी मध्य प्रदेश के अंदर अधिक इन लोगों ने भ्रष्ट अधिकारियों को मंत्रियों के बंदे से नहीं हटाया तो ज्यादातर वही स्टाफ इन लोगों ने पूछ लिया है जो जनता को चुटिया बना सके और ठगी करके जनता को गुमराह कर सके इसमें बड़ा बवाल मचा हुआ है इस वक्त में
जनसंपर्क विभाग को कांग्रेस के मंत्री श्री पी शर्मा को समझने की आवश्यकता है और माननीय मुख्यमंत्री जी को समझने की बड़ी आवश्यकता है अन्यथा बहुत बड़ा भारी नुकसान हो सकता है
हमारे नब्बे परसेंट मीडिया जो बड़े इमानदारी के साथ में पारदर्शिता के साथ में काम करना चाह रही है उसको यह दूर रखते हैं और 10 परसेंट हमारे वह भाई भी है जिनमें हमसे ज्यादा विशेषता उनमें इनको दिखती है इसलिए इन्होंने 10 पर्सेंट को पकड़कर नब्बे पर्सेंट को अलग पटक रखा है
धन्यवाद देता हूं कि हमारे ईमानदार साथियों को बुलाकर सही जानकारी देने की कोशिश कर रहे हैं अधिकारी लोग मगर शरारत और षड्यंत्र रच कर ना करें तो और भी अच्छी बात रहेगी क्या भोपाल में आज शाम को जो पत्रकार आए थे उतने ही है गिनती गिरेंगे तो 100 तो क्या 50 भी नहीं होंगे 50 होंगे तो भी मैं धन्यवाद देना चाहूंगा इन अधिकारियों की कोई बात ही नहीं मानते हमारे पत्रकार भाई लोग अपनी पेपर और चैनल को जिंदा रखना है और जनता के लिए कुछ पहुंचना है इसलिए हमारे कुछ भाई लोग आए उन्होंने कवरेज किया है धन्यवाद देता हूं 25 से 30 क्या बहुत ही ज्यादा आगे पीछे आए होंगे मुझे विश्वास नहीं है मैं 40 बोल देता हूं यह पत्रकार उसने भी नहीं थे हमेशा ऐसा लिखने वाला कोई पत्रकार नहीं है सच्चाई ताकि इनको पता है मगर यह पूरी सच्चाई है इसकी जांच करवा लें उच्च स्तर पर विस्ता के साथ किसी अच्छी एजेंसी से इन्होंने बहुत गोलमाल किया है बीजेपी की सरकार में कोई भी छुट्टी श्रीकांत होती है उसके अंदर लाखों का ही हिसाब किताब बनाने में कसर नहीं छोड़ी है बाहर के पेड़ लगाते थे कहीं इधर से कभी उधर से और गिनती की कॉन्फ्रेंस हमारे टूरिज्म की पोर्टल प्यार से भी होता था उसमें भी बढ़-चढ़कर अपने चहेतों को बुलाकर दुरुपयोग करवाते थे.
इस पर माननीय कमलनाथ जी ने रोक लगाया है मैं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी को बधाई देना चाहता हूं भ्रष्ट अधिकारी से सावधान रहने की आवश्यकता है जूता कितना भी महंगा हो कमलनाथ जी ने पैर में ही पहना है
गलत जगह इस माल नहीं होने दिया है मैं ऐसे मत प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी को हृदय से धन्यवाद देता हूं मुझे मालूम है उनकी सरकार पूरी 5 साल चला कर मध्य प्रदेश के अंदर एक अच्छी विच इस सरकार को मजबूत करने के साथ-साथ केंद्र में कांग्रेस सरकार बनाने में भी अव्वल रहेगी जिससे राष्ट्र का भला होगा गरीब जनता का भला होगा भ्रष्टाचारियों का मुंह काला होगा भ्रष्टाचार अधिकारी हो जा कर्मचारी हो नेता हो चाय लूटने वाला हो जनता को या गुमराह करने वाला हो किसी भी रूप में इनका मुंह काला किया जा सकता है कांग्रेस की सरकार में भ्रष्टाचारियों का नामोनिशान मिट जाएगा
माली कमलनाथ जी से विनम्र निवेदन है कि जनसंपर्क पर फोकस करें पीसी शर्मा जी यहां पर भ्रष्टाचारी कर्मचारियों को बहुत जल्दी से हटाने की आवश्यकता है यह भाई बनकर 10 से हैं दुश्मन बन कर नहीं डरते हैं यह लोग जो हैं रिश्तेदारी जातिवाद बनकर आपके करीब में आएंगे फिर करेंगे हिंदू बात बन जाएंगे कहीं sc-st के बाद बताएंगे कहीं मैं हिंदू हूं तो मैं मुसलमान हूं तो मैं कमलनाथ जी का भी रिश्तेदार बनने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे कहीं भी शर्मा का विस्तार करने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे कोई नारी जी का प्रचार करने में कसर नहीं छोड़ेंगे कोई चौधरी साहब का कोई गुप्ता जी का रिश्ता बन जाएगा सरदार बन के अपना बनके अपनी सरकार में चुना लगाने में कोई कसर नहीं छोड़ेगा कोई आपको अपना गुरु मानेगा तो कोई आपको अपना गॉडफादर मार लेगा6

Please follow and like us:
%d bloggers like this: